Saari Basti Kadmo Me Hai -Rahat Indori Shayari

,

Saari Basti Kadmo Me Hai Rahat Indori Shayari

Saari Basti Kadmo Me Hai Rahat Indori Shayari
सारी बस्ती क़दमों में है, ये भी इक फ़नकारी है
वरना बदन को छोड़ के अपना जो कुछ है सरकारी है

कालेज के सब लड़के चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिये
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

फूलों की ख़ुश्बू लूटी है, तितली के पर नोचे हैं
ये रहजन का काम नहीं है, रहबर की मक़्क़ारीहै

हमने दो सौ साल से घर में तोते पाल के रखे है
मीर तक़ी के शेर सुनाना कौन बड़ी फ़नकारी है

अब फिरते हैं हम रिश्तों के रंग-बिरंगे ज़ख्म लिये
सबसे हँस कर मिलना-जुलना बहुत बड़ी बीमारी है

दौलत बाज़ू हिकमत गेसू शोहरत माथा गीबत होंठ
इस औरत से बच कर रहना, ये औरत बाज़ारी है

कश्ती पर आँच आ जाये तो हाथ कलम करवा देना
लाओ मुझे पतवारें दे दो, मेरी ज़िम्मेदारी है...

---Saari Basti Kadmo Me Hai Rahat Indori Shayari


0 comments to “Saari Basti Kadmo Me Hai -Rahat Indori Shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy