Tanhayi shayari

,
Sad Shayari

sad Shayari

Ab ki dafa wo ro padega viraan kagaaz dekh kar
Aakhri khat me maine use likha kuch bhi nahi..
Bikhri bhikri zulfe rukh par aur pasina mathe par
Sach to ye hai tum gusse me or bhi pyare lagte ho..
Karwat karwat chubta bistar saas saas me angdayi
Kis ko apni neende dedi jaage jaage lagte ho..

अब की दफ़ा वो रो पड़ेगा वीरान काग़ाज़ देख कर
आखरी खत मे मैने उसे लिखा कुछ भी नही..
बिखरी-बिखरी  ज़ूलफे रुख़ पर और पसीना माथे पर
सच तो ये है तुम गुस्से मे ओर भी प्यारे लगते हो..
करवट करवट चुभता  बिस्तर सास सास मे अंगड़ाई

किस को अपनी नींदे देदी  जागे जागे लगते हो
❤❤❤❤

Agar jashan manana tha tumko
To pehle mujko dafna lete
Mujko chod kar sahar-e-khamosa me
Phir baad me jasan mana lete..
Kuch din to gujar jane dete
Tum gair ki she saza lete
Apne hatho se rukhsat karke
Ba-shok barat bula lete..

अगर जशन मानना था तुमको
तो पहले मुजको दफ़ना लेते
मुझको  छोड़ कर शहर -ए-खामोसा मे
फिर बाद मे जश्न  मना लेते..
कुछ दिन तो गुजर जाने देते
तुम गैर की सेज़  सज़ा लेते
अपने हाथो से रुखसत करके

बा-शोक बारात बुला लेते
❤❤❤❤
Surkh joda pahen kar shadi ka,
meri maiyyat pe tum kyu haste ho
Kaise jalim ho apne aashiq ki
 muft me bekasi udhate ho..

सुर्ख जोड़ा पहन  कर शादी का,
मेरी मैय्यत पे तुम क्यों हस्ते  हो
कैसे जालिम हो अपने आशिक़ की

 मुफ़्त मे बेकासी उड़ाते  हो
❤❤❤❤

Dard ki jaan banaya tune sunle meri jana
Teri khatir choda chaman basa liya virana
Tere sahar me meri wafa ko koi nahi pechana
Suna raha hu suno gaur se mera dard bhara afsana..

दर्द की जान बनाया तूने सुनले  मेरी जाना
तेरी खातिर छोड़ा चमन बसा लिया वीराना
तेरे शहर  मे मेरी वफ़ा को कोई नही पहचाना 

सुना रहा हू सुनो गौर से मेरा दर्द भरा अफ़साना
❤❤❤❤
Mere saas ki doori tootne wali hai logo
Ye jindgi bhi mujse roothne wali hai logo
Ashqo ki ladi in aankho se footne wale hai logo
Meri or unki dosti bhi ab chutne wali hai logo…

मेरी  सास की डोरी टूटने वाली है लोगो
ये जिंदगी भी मुझसे  रूठने वाली है लोगो
अश्क़ो  की लडी  इन आँखो से फूटने वेल है लोगो

मेरी ओर उनकी दोस्ती भी अब छूटने वाली है लोगो 
❤❤❤❤

Mai he janta hu jo mujpar gujar gayi
duniya to luft legi meri baato me..
Mera to jurm tazqra-e-aam hai magar
Kuch dhaziya baki hai meri julekha ke hath me…

मै ही  जनता हू जोमुझ पर गुजर गयी
दुनिया  तो लुफ्त मैगी मेरी बातो में 
मेरा तो जुर्म ताज़क़रा-ए-आम है मगर

कुछ धहाज़िया बाकी  है मेरी जुलेखा के हाथ मे
❤❤❤❤

Hai apne rab se ye he iltaza meri,
tere kareeb zamane ki koi khushi na lage
Tu roya kare uth kar chandni raato ko,
khuda kare tera mere begair jee na lage..


है अपने रब से ये हे इलतज़ा मेरी,
तेरे करीब ज़माने की कोई खुशी ना लगे
तू रोया करे उठ कर चाँदनी रातो को,

खुदा करे तेरा मेरे बेगैर जी ना लगे

0 comments to “Tanhayi shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy