Zikar Jab Chid Gaya Unki Aangdayi Ka # Attaullah Khan Ghazal

Zikar Jab Chid Gaya Unki Aangdayi Ka # Attaullah Khan Ghazal

ZikarJab Chid Gaya Unki Aangdayi Ka # Attaullah Khan Ghazal

Zikar jab chid gaya unki aangdayi ka ,
shaak se phool yu toot kar gir pade
Jaise dulhan koi pyar ki god me, 
jindgi ke maze loot kar gir pade..

Hoti nahi wafa to jafa hi kiya karo,
tum bhi to koi rasme ulfat ada karo
Ham tumpe mar mite to ye kiska kasoor hai ,
aaina lekar hath me khud faisla karo..

Ab unpe kisi baat ka hota nahi asar,
sawal karo ,meenate karo ,iltaza karo
Sharminda hu ke maut bhi aati nahi muje,
tum mere liye ab to koi badua karo..

Jaise dulhan koi pyar ki god me, 
jindgi ke maze loot kar gir pade..

Baitho na mehfilo me zamana kharab hai ,
dekho hamari baat bhi kabhi sun liya karo
Shaahid kabhi to dekhega wo jhaak kar,
uski gali me roz tamasha kiya karo..

Husn walo ki galiyo se maiyyat meri ,
rakh ke kandhe pe jis dam uthayi gayi
Kanghiya geshuo me fasi reh gayi,
aaine hath se chutkar gir pae..

Zikar jab chid gaya unki aangdayi ka ,
shaak se phool yu toot kar gir pade
Jaise dulhan koi pyar ki god me, 
jindgi ke maze loot kar gir pade..
❤❤❤❤


जिक्र  जब छिड़ गया उनकी आगड़ाई का ,
शाक से फूल यू टूट कर गिर पड़े
जैसे दुल्हन कोई प्यार की गोद मे, 
जिंदगी के मज़े लूट कर गिर पड़े..

होती नही वफ़ा तो जफ़ा ही किया करो,
तुम भी तो कोई रस्मे उलफत अदा करो
हम तुम पे मार मिटे तो ये किसका कसूर है ,
आईना लेकर हाथ मे खुद फ़ैसला करो..

अब उनपे किसी बात का होता नही असर,
सवाल करो ,मिन्नतें  करो ,इलतज़ा करो
शर्मिंदा हू के मौत भी आती नही मुझे ,
तुम मेरे लिए अब तो कोई बदुआ करो..

जिक्र  जब छिड़ गया उनकी आंगड़ाई का ,
शाक से फूल यू टूट कर गिर पड़े
जैसे दुल्हन कोई प्यार की गोद मे, 
जिंदगी के मज़े लूट कर गिर पड़े..

बैठो ना महफ़िलो मे ज़माना खराब है ,
देखो हमारी बात भी कभी सुन लिया करो
शाहिद कभी तो देखेगा वो झाक कर,
उसकी गली मे रोज़ तमाशा किया करो..

हुस्न वालो की गलियो से मैय्यत मेरी ,
रख के कंधे पे जिस दम उठाई गयी
कंघिया गेसुओ  मे फसी रह गयी,
आईने हाथ से छुटकर गिर पाए..

जिक्र  जब छिड़ गया उनकी आंगड़ाई का ,
शाक से फूल यू टूट कर गिर पड़े
जैसे दुल्हन कोई प्यार की गोद मे, 
जिंदगी के मज़े लूट कर गिर पड़े..

Previous
Next Post »

Recent Updates