Baat To Aise Nahi Thi Koi Bhi Mere Naam Me # Attaullah Khan Ghazal

Baat To Aise Nahi Thi Koi Bhi Mere Naam Me # Attaullah Khan Ghazal

Baat To Aise Nahi Thi Koi Bhi Mere Naam Me # Attaullah Khan Ghazal

Baat to aise nahi koi bhi mere naam me
Aapki nisbat hai pehchaan khaaso aam me..

Yu to peete the magar behke na the pehle kabhi
Aapki aankho se kuch tapki hai sayad jaam me..

Mujpar mehfil me uthi jo har tarf se ungliya
Ho na ho taseer hai aapke ilzaam me..

Baat to aise nahi koi bhi mere naam me
Aapki nisbat hai pehchaan khaaso aam me..

Bolne se peshtar hi ud gaya qasid ka rang
Jaane aise baat kya thi aapke paigaam me..

Meri har subh me hai bas aapke aaraz ka rang
Aapke gesu ki rangat hai meri har shaam me..

Pyar jaise cheez milti hai muqaddar se " bashir "
Hamne to bikte dekha nahi ise bazaar me..

Baat to aise nahi koi bhi mere naam me
Aapki nisbat hai pehchaan khaaso aam me..
❤❤❤❤
बात तो ऐसे नही कोई भी मेरे नाम मे
आपकी निसबत है पहचान ख़ासो आम मे..

यू तो पीते थे मगर बहके ना थे पहले कभी
आपकी आँखो से कुछ टपकी है शायद जाम मे..

मुझ पर महफ़िल मे उठी जो हर तरफ़ से उंगलिया
हो ना हो तासीर है आपके इल्ज़ाम मे..

बात तो ऐसे नही कोई भी मेरे नाम मे
आपकी निसबत है पहचान ख़ासो आम मे..

बोलने से पेश्तर ही उड़ गया क़ासिद का रंग
जाने ऐसे बात क्या थी आपके पैगाम मे..

मेरी हर सुबह  मे है बस आपके आरज़ का रंग
आपके गेसू की रंगत है मेरी हर शाम मे..

प्यार जैसे चीज़ मिलती है मुक़द्दर से " बशीर "
हमने तो बिकते देखा नही इसे बाज़ार मे..

बात तो ऐसे नही कोई भी मेरे नाम मे
आपकी निसबत है पहचान ख़ासो आम मे..

Previous
Next Post »

Recent Updates