Teri Tarif Karte Hai To Isme Kya Burai Hai Anup Jalota Ghazal

Teri Tarif Karte Hai To Isme Kya Burai Hai Anup Jalota Ghazal

Teri Tarif Karte Hai To Isme Kya Burai Hai Anup Jalota Ghazal

" Ye tere phool se gaalo pe jo kala til hai
Tumko maloom nahi hai ke ye mera dil hai .."

Teri tarif karte hai to isme kya burai hai
Khuda ne apne hatho se teri tasveer banai hai..

Tere geshu, tere abru ,teri aankhe ye lab tere
Jo dil ko loot le jaye wo teri dil rubayi hai..

Hazaaro ki tarh sunle teri ruswayi ke dar se
Teri tasveer hamne bhi kitaabo me chupayi hai..

Teri maasum soorat ki yahin Taarif hain sunle
Jabaan pe hain yahin sabke Khudaai hain khudaai hain

Marz ye ishq ka aisa laga Ke phir nahi chhuta
Duaa bhi humne ki raahi Dawa bhi aazmaai hain

Teri tarif karte hai to isme kya burai hai
Khuda ne apne hatho se teri tasveer banai hai..
❤❤❤❤
" ये तेरे फूल से गालो पे जो काला तिल है
तुमको मालूम नही है के ये मेरा दिल है .."

तेरी तारीफ करते है तो इसमे क्या बुराई है
खुदा ने अपने हाथो से तेरी तस्वीर बनाई है..

तेरे गेशु, तेरे बरू ,तेरी आँखे ये लब तेरे
जो दिल को लूट ले जाए वो तेरी दिल रुबाई है..

हज़ारो की तरह सुनले  तेरी रुसवाई के डर  से
तेरी तस्वीर हमने भी किताबो मे छुपाई है..

तेरी मासूम सूरत की यहीं तारीफ़ हैं सुनले 
ज़बान पे हैं यहीं सबके खुदाई हैं खुदाई हैं

मर्ज़  ये इश्क़ का ऐसा  लगा के फिर नही छूटा 
दुआ भी हमने  की राही दवा  भी आज़माई हैं

तेरी तारीफ करते है तो इसमे क्या बुराई है
खुदा ने अपने हाथो से तेरी तस्वीर बनाई है..

Teri Tarif Karte Hai To Isme Kya Burai Hai MP3 Download Anup Jalota Ghazal

Download 


Previous
Next Post »

Recent Updates