Zindgi Jaise Tamanna Thi By Anup Jalota Ghazal

Zindgi Jaise Tamanna Thi By Anup Jalota Ghazal


Zindgi Jaise Tamanna Thi By Anup Jalota Ghazal

Zindgi jaise tamanna thi nahi kuch kam hai
har ghadi hota hai ehsaas kahi kuch kam hai..

Ghar ki tameer tasavvur me he ho sakti hai
apne nakshe ke mutabiq ye zamee kuch kam hai...

Zindgi jaise tamanna thi nahi kuch kam hai
har ghadi hota hai ehsaas kahi kuch kam hai..

Bichde logo se mulaqaat kabhi fir hogi
Dil me umeed to kafi hai yakeen kuch kam hai...

Ab jidhar dekhiye lagta hai ke is duniya me
kahi kuch cheez jayada hai kahi kuch kam hai..

Zindgi jaise tamanna thi nahi kuch kam hai
har ghadi hota hai ehsaas kahi kuch kam hai..

Aaj bhi hai teri duri he udasi ka sabab
ye alag baat ke pehle si nahi kuch kam hai..

Zindgi jaise tamanna thi nahi kuch kam hai
har ghadi hota hai ehsaas kahi kuch kam hai..


.....................
ज़िंदगी जैसे तमन्ना थी नही कुछ कम है
हर घड़ी होता है एहसास कही कुछ कम है..

घर की तमीर तसवउर मे हे हो सकती है
अपने नक्शे के मुताबिक़ ये ज़मी कुछ कम है...

ज़िंदगी जैसे तमन्ना थी नही कुछ कम है
हर घड़ी होता है एहसास कही कुछ कम है..

बिछड़े लोगो से मुलाक़ात कभी फिर होगी
दिल मे उमीद तो काफ़ी है यकीन कुछ कम है...

अब जिधर देखिए लगता है के इस दुनिया मे
कही कुछ चीज़ ज़यादा है कही कुछ कम है..

ज़िंदगी जैसे तमन्ना थी नही कुछ कम है
हर घड़ी होता है एहसास कही कुछ कम है..

आज भी है तेरी दूरी हे उदासी का सबब
ये अलग बात के पहले सी नही कुछ कम है..


ज़िंदगी जैसे तमन्ना थी नही कुछ कम है
हर घड़ी होता है एहसास कही कुछ कम है..

Click Here To Download This Beautiful Ghazal
इस ग़ज़ल को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करे 

Previous
Next Post »

Recent Updates