Aise Tere Begair Jiye Jaa Rahe Hai Ham By Chandan Das Ghazal

Aise Tere Begair Jiye Jaa Rahe Hai Ham By Chandan Das Ghazal

Aise Tere Begair Jiye Jaa Rahe Hai Ham By Chandan Das Ghazal


Aise tere begair jiye jaa rahe hai ham
Jaise koi gunaah kiye jaa rahe hai ham..

tu jindgi hai tujse rahe dur kis tarh
Mar mar ke jee rahe hai tere gam me is tarh..

ilzaam jaise koi liye jaa rahe hai ham
Jaise koi gunaah kiye jaa rahe hai ham..

 Kehte hai log jinda hai tujse bichad ke ham
Lekin teri judai me bichde huye sanam..

Kandho pe apni lash liye jaa rahe hai ham..
jaise koi gunaah kiye jaa rahe hai ham..

Dil ro raha hai aankh me aasu magar nahi
Ruswa na tera pyar ho fariyaad se kahi..

Is dar se apne hoth siye jaa rahe hai ham
aise koi gunaah kiye jaa rahe hai ham..

Aise tere begair jiye jaa rahe hai ham
Jaise koi gunaah kiye jaa rahe hai ham..
❤❤❤❤


ऐसे तेरे बेगैर जिए जा  रहे है हम
जैसे कोई गुनाह किए जा  रहे है हम..

तू जिंदगी है तुझसे  रहे दूर किस तरह
मर मर के जी रहे है तेरे गम मे इस तरह..

इल्ज़ाम जैसे कोई लिए जा  रहे है हम
जैसे कोई गुनाह किए जा  रहे है हम..

 कहते है लोग जिन्दा है तुझसे  बिछड़ के हम
लेकिन तेरी जुदाई मे बिछड़े हुए सनम..

कंधो पे अपनी लाश लिए जा  रहे है हम..
जैसे कोई गुनाह किए जा रहे है हम..

दिल रो रहा है आँख मे आसू मगर नही
रुसवा ना तेरा प्यार हो फरियाद से कही..

इस डर  से अपने होंठ  सीए जा  रहे है हम
जैसे  कोई गुनाह किए जा  रहे है हम..

ऐसे तेरे बेगैर जिए जा  रहे है हम
जैसे कोई गुनाह किए जा  रहे है हम..

Aise Tere Begair Jiye Jaa Rahe Hai Ham MP3 Downlaod By Chandan Das Ghazal

Downlaod


Previous
Next Post »

Recent Updates