Two line shayari


तू बूत-ऐ -काफिर अगर मुझसे जुदा  हो जायेगा ,जीम  का नुक्ता पलट दुगा खुदा हो जायेगा.. !!
tu but-e-kafir agar musje juda ho jayega zeem ka nuktaa palat duga khuda ho jayega...!!
❤❤❤❤

 अहले दिल उसको दिल नहीं कहते जो धड़कता ना हो किसी के लिए
ahle dil usko dil nahi kehte,jo dhadkta na ho kisi ke liye....
❤❤❤❤

फितरत ऐ शायर हु मै ज़र्रे -ज़र्रे में अपनी रूह भर सकता हु ..
fitrat-e-shayar hu mai,zarre-zarre me apni rooh bhar sakta hu....
❤❤❤❤

ना  खुदी है ना  बेखुदी है चले आओ अब कोई नहीं है...
Na khudhi hai na  bekhudi hai,chale aao ab koi nahi hai...

❤❤❤❤
किस कदर नादान थे हम लोग धोका खा गए ,फत्थरों के शहर में आइना लेकर आ गए..!!
kis kadar nadan the ham log dhoka kha gaye,phattaro ke sahar me aaina lekar aa gaye..!!
❤❤❤❤
ना पास आओ तुम अब ज़माना बड़ा सताता है,मेरे वजूद को ठोकरों से मिटाता  है ..!!
na paas aao tum ab,zamana bda satata hai ,mere wjood ko thokro se mita ta hai...!!

❤❤❤❤

कौन कहता है कि मुसाफिर ज़ख़्मी नहीं होते,रास्ते गवाह है बस गवाही नहीं देते...
kon kehta hai ki musafir zakhmi nahi hote,raaste gawah hai par gawahi nahi dete...
Previous
Next Post »

Recent Updates