Saqi aur Sharab

Sharabi shayari
sharabi shayari


Na mere bas me nizam-e-aalam,Na dil pe hai ikhtiyaar aaka
Isi pash-o-pesh kar liya hai zameer ko taar-taar aaka ..
Na jane kis waqt taqdeer cheen le mujse mera sabkuch
Ye sher jinda rahe jahan me faker ki yaadgaar aaka..

ना मेरे बस मे निज़म-ए-आलम,ना दिल पे है इकतियार आका
इसी पाश-ओ-पेश कर लिया है ज़मीर को तार-तार आका ..
ना जाने किस वक़्त तक़दीर छीन  ले मुजसे मेरा सबकुछ

ये शेर जिंदा रहे जहाँ मे फेकर की यादगार आका..

❤❤❤❤

Pee kar bhi jalak noor kar muh par nahi  aati
Hum rindo me wo sahib-e-imaan nahi hota..
Bach jaye jo jawani me duniya ki hawa se
Hota hai farishta insaan nahi hota..

पी कर भी झलक  नूर की  मूह पर नही  आती
हम रिंदो मे वो साहिब-ए-ईमान नही होता..
बच जाए जो जवानी मे दुनिया की हवा से

होता है फरिश्ता इंसान नही होता
❤❤❤❤

Naqab rukh se hatao ke raat jati,
koi to baat sunao ke raat jati hai
Jo maikahde me nahi maii to kya hua saqi 
hume nazar se pilao ke raat jati hai..
Wo ek shab ke liye mere ghar me aaye 
sitaare tod ke lao ke raat jati hai..

नक़ाब रुख़ से हटाओ के रात जाती,
कोई तो बात सूनाओ के रात जाती है
जो मैकहदे मे नही मै  तो क्या हुआ साक़ी 
हमें  नज़र से पिलाओ के रात जाती है..
वो एक शब के लिए मेरे घर मे आए 

सितारे तोड़ के लाओ के रात जाती है..
❤❤❤❤
Aankho me hai gum ke aasu aur hotho par fariyaade hai
Aur ab kya hai paas hamare bas ek teri yaade hai..

आँखो मे है गुम के आसू और होतो पर फरियादे है

और अब क्या है पास हमारे बस एक तेरी यादे है..
❤❤❤❤
Loot ke mere dil ki nagri gair ka ghar aabaad kiya
Sari duniya jaanti hai ke tune muje barbaad kiya..


लूट के मेरे दिल की नगरी गैर का घर आबाद किया

सारी दुनिया जानती है के तूने मूज़े बर्बाद किया..

Previous
Next Post »

Recent Updates