Saqi Aur Sharab

,

Saqi Aur Sharab

Sharabi Shayari


Saqiya meri akeedat ko na dhoka dena,
mai teri aankh ki niyat se khabadar nahi,
Aur soch lo raah me na mujko paresaan karna,
kehte hai raasta jist ka hambaar nahi..

साक़िया मेरी अकीदत को धोका ना  देना
मै  तेरी आँख की नियत से खबरदार नहीं 
और सोच लो राह में न मुझको परेशान करना 
रास्ता जीस्त का सुना है हमबार  नहीं। ..  

❤❤❤❤

Sharaab isliye filhaal mai nahi peeta,
ke naap tol kar peena muje pasand nahi..
Tere wajood se angdaayi lekar niklega,
jo maikada abhi bottle me band nahi…..

शराब इसलिए फिलहाल है नहीं पीटा 
के नाप टोल कर पीना मुझे पसंद नहीं 
तेरे वजूद से अंगड़ाई लेकर निकलेगा
 जो मैकदा अभी बोतलों में नहीं...   



❤❤❤❤

Sharab peene de masjid  me baitha kar saqi,
ya wo gajah bata,jaha khuda na ho....

शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर साक़ी 
या वो  जगह बता जहा खुदा ना हो... 

❤❤❤❤


Mai sharabi hu is sharab ko chodu kaise
gum bhulati hai ye bottel ise todu.....
dil pyasa hai mera pee ke ye bottel saqi..
mai pareshan hu ke bottel ko nichodu kaise...

मैं शराबी हू  इस शराब को छोड़ू कैसे 
 गम भुलाती  है ये बोतल  इसे तोडू कैसे 
दिल प्यासा  है मेरा पी के ये बोतल साक़ी 
मै परेशान हु के बोतल को निचोड़ू  कैसे 

❤❤❤❤

ham peete hai maze ke liye,bewahaj badnaam gum hai.
puri bottel peekar dekho duniya kya jannat se kam hai...

हम पीते है मज़े के लिए. बेवजह बदनाम गम है 
पूरी बोतल पीकर देखो दुनिया क्या बोत्तल कम  है। 
Saqi Aur Sharab


0 comments to “Saqi Aur Sharab”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy