Teri Yaad

Sad Shayari
sad shayari

kal raat bhi wade ka tere dil ko yakeen tha
magar kal raat bhi mere ro-ro ke kati hai..
mansoob hui hai meri vehshat ke chalan se
jab bhi tere aagan se koi baat chali hai…

कल रात  भी वादे  का तेरे दिल को यकीन था 
मगर कल रात भी मेरी रो-रो के कटी है.. 
मंसूब हुई है मेरी वेह्शत के चलन से 
जब भी तेरे आगाँन  से कोई बात चली  है 
❤❤❤❤

khayal-e-yaar salamat tuje khuda rakhe
tere begair  ghar me kabhi roshni na hui
sba ye unse hamara paiyaam keh dena
gaye ho jab se yaha subh-shaam he na hui…

ख्याल-ए -यार सलामत तुजे खुदा रखे 
तेरे बगैर घर में कभी  रौशनी ना  हुई 
सबा ये उनसे हमारा पैगाम  कह देना 
गए हो जबसे यहाँ सुबह शाम न हुई 
❤❤❤❤

gulshan parasth hu muje gul he nahi ajeez
kaato se bhi nibha raha hu mai..
yu jindgi gujar raha hu tere begair
jaise koi gunah kiya jar aha hu mai..

गुलशन परस्थ हू मैं मुझे गुल ही  नहीं अजीज़ 
काटो से भी निभा रहा हू मैं 
यु जिंदगी गुजार रहा हू  तेरे बगैर 
जैसे कोई गुनाह किये जा रहा हू मैं। 
❤❤❤❤

meri jindgi to guzri tere hijar ke bahane
meri maut ko bhi chaiye koi bahana
mai wo baat he na keh du,hai jo farq tujme or mujme
tera gum gum-e-tanha,mera gum gum-e-zamana..

मेरी जिंदगी तो गुजरी है तेरे हिजर के बहाने से 
मेरी मौत को भी चाइये कोई बहाना 
मई वो बात न कह दू जो है फ़र्क़ तुजमे और मुजमे 
तेरा गम गम-ए -तनहा मेरा गम गम-ए ज़माना। 
❤❤❤❤

phir dil me aarzoo ki shamme na jal pade
itna bhi na satao ke aasu nikal  pade..
phir kis tarh kare koi izhaare-aarazo
jab iltaza se aapke mathe pe bal pade..

फिर दिल में कोई आरज़ू की शम्मा ना जल पड़े 
इतना भी ना सताओ के आसु निकाल  पड़े 
फिर किस तरह  करे कोई इज़हारे आरज़ू 
जब इल्तिज़ा से आपके माथे पे बल पड़े 




Previous
Next Post »

Recent Updates