Life ke Tazurbe

,
Life Shayari
life shayari

Ruswaar cheez thek nahi aadmi ke liye..
Nazar kisi ke liye ho jubaa kisi ke liye..
Na aitbaar-e-wafa kar un nigaaho ka
Kabhi kisi ke liye,kabhi kisi ke liye…

रुसवार चीज़ ठीक  नही आदमी के लिए..
नज़र किसी के लिए हो जुबा किसी के लिए..
ना ऐतबार-ए-वफ़ा कर उन निगाहो का

कभी किसी के लिए,कभी किसी के लिए…
❤❤❤❤

Jo kaam na karna tha wo kaam kiye jaa raha hu mai
Amrit samaj ke jaher piye jaa raha hu mai
Dil me tmahre deed ki hasrat hai isliye
Hai maut mere sar pe jiye jaa raha hu mai…

जो काम ना करना था वो काम किए जेया रहा हू मै 
अमृत समज के जाहर पिए जेया रहा हू मै 
दिल मे तुम्हारे  दीद  की हसरत है इसलिए

है मौत मेरे सर पे जिए जीये  रहा हू मै 

❤❤❤❤

Ham bhi kya jindgi gujaar gaye
Dil ki bazi laga ke haar gaye
Maut se kab the marne wale hum
Bol teri juba ke maar gaye..

हम  भी क्या जिंदगी गुज़ार गये
दिल की बाज़ी लगा के हार गये
मौत से कब थे मरने वेल हम

बोल तेरी जुबां  के मार गये..

❤❤❤❤

Baat parde ki hai parda pda rehne do
Naam qatil ka bata du ye mera kaam nahi
Kaam kya hai teri ulfat me tadapne ke siva
Tu nahi hai to ghadi bhar muje aaram nahi..

बात पर्दे की है परदा पड़ा  रहने दो
नाम क़ातिल का बता दू  ये मेरा काम नही
काम क्या है तेरी उलफत मे तड़पने के सिवा

तू नही है तो घड़ी भर मुझे  आराम नही
❤❤❤❤

Gareeb hona bhi julm hai zamane me
Lagi hai dunia faqat ek muje meetane me
Tabah karke muje aur loge kya logo
Bacha nahi hai kuch bhi gareeb khane me..


ग़रीब होना भी ज़ुल्म है ज़माने मे
लगी है दुनिया फ़क़त एक मुझे  मिटाने मे
तबाह करके मुझे  और लोगे क्या लोगो

बचा नही है कुछ भी ग़रीब खाने मे..

0 comments to “Life ke Tazurbe”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy