फूल शबनम मे डूब जाते है # Sad Ghazal


Tum pucho aur mai na batau aise to halaat nahi sad ghazal


" Phool shabnam me doob jate hai
Zakham marham me doob jate hai..
Jab koi aasra nahi milta..
Ham tere gam me doob jate hai..."

Tum pucho aur mai na batau aise to halaat nahi
Ek jra sa dil toota hai aur to koi baat nahi..

Gam ke aandhiyare me tujko apna sathi kyu samjhu
tu phir tu hai ,mera to saya bhi mere sath nahi..

Kisko khabar thi saawre badal bin barse ud jate hai
Sawan aaya lekin apni kismat me barsaat na thi..

Tum pucho aur mai na batau aise to halaat nahi
Ek jra sa dil toota hai aur to koi baat nahi..

Toot gya jab dil to ye saas ka nagma kyu maane
Goonj rahi hai kyu sehnayi jab koi barat nahi hai..

Tum pucho aur mai na batau aise to halaat nahi
Ek jra sa dil toota hai aur to koi baat nahi..
❤❤❤❤


" फूल शबनम मे डूब जाते है
ज़ख़्म मरहम मे डूब जाते है..
जब कोई आसरा नही मिलता..
हम तेरे गम मे डूब जाते है..."


तुम पूछो और मै  ना बताऊ ऐसे तो हालात नही
एक जरा सा दिल टूटा है और तो कोई बात नही..

गम के आँधियारे  मे तुझको अपना साथी क्यू समझू
तू फिर तू है ,मेरा तो साया भी मेरे साथ नही..

किसको खबर थी सावरे बदल बिन बरसे उड़ जाते है
सावन आया लेकिन अपनी किस्मत मे बरसात ना थी..

तुम पूछो और मै  ना बताऊ ऐसे तो हालात नही
एक जरा सा दिल टूटा है और तो कोई बात नही.

टूट गया जब दिल तो ये सास का नगमा क्यू माने
गूँज रही है क्यू शेहनाई  जब कोई बारात नहीं  है..

तुम पूछो और मै  ना बताऊ ऐसे तो हालात नही
एक जरा सा दिल टूटा है और तो कोई बात नही... 


Previous
Next Post »

Recent Updates