इन रंजिशो के आईने मे जो देखा खुद को # Two Line Shayari

best heart touching two line shayari

*** Two Line Shayari ***
In ranjisho ke aaine me jo dekha khud ko
Mera aks bhi muje kuch khafa sa laga...

इन रंजिशो के आईने मे जो देखा खुद को
मेरा अक्स भी मुझे  कुछ खफा सा लगा..
❤❤❤❤


Ye jindgi bhi ajeeb kashmash hai galib
Pta nahi waqt se paise bna rahe ya paise se waqt bna rahe..

ये जिंदगी भी अजीब कशमश है ग़ालिब
पता  नही वक़्त से पैसे बना  रहे या पैसे से वक़्त बना  रहे..
❤❤❤❤
Un collage ki mehfilo me,ham badnaam hi sahi the
Aaj iss naam ki jaddojehad se khamkha benam ho gaye...

उन कॉलेज  की महफ़िलो मे,हम बदनाम ही सही थे
आज इस  नाम की जद्दो जेहद से खामखाँ बेनाम हो गये...

❤❤❤❤
Ye haar aur taqdeer to mahaj ek iktefaq hai
gire to wo hai,jo kabhi uthe hi nahi..

ये हार और तक़दीर तो महज एक इकतेफ़ाक़ है
गिरे तो वो है,जो कभी उठे ही नही..
❤❤❤❤
Kisi tameez ka kissa hamne suna tha zamano se
Jo nikle dar-badar-logo ne bas mere kapde dekhe..

किसी तमीज़ का किस्सा हमने सुना था ज़मानो से
जो निकले दर-बदर-लोगो ने बस मेरे कपड़े देखे..

❤❤❤❤
*** Best Two Line Shayari ***

Baat to bas itni si thi janab
Ham usool banate rahe,wo hame banate rahe..

बात तो बस इतनी सी थी जनाब
हम उसूल बनाते रहे,वो हमे बनाते रहे..

❤❤❤❤
Aap aaye the jiske husn-e-didaar ke liye
us shama ka parvana to koi aur hi ban gaya
Par us jalwe ki kya hi aukaat-e-hamsafar
Jo mere yaar ko ki na roshan kar paya..

आप आए थे जिसके हुस्न-ए-दीदार के लिए
उस शमा का परवाना  तो कोई और ही बन गया
पर उस जलवे की क्या ही औकात-ए-हमसफ़र
जो मेरे यार को की ना रोशन कर पाया..
❤❤❤❤


Ye fittor bhi kaisa ki iss zamane ko harana hai
Yaha khud se jeetne me ,kai zamane lag jate hai..

ये फ़ितूर  भी कैसा की इस  ज़माने को हराना है
यहा खुद से जीतने मे ,कई ज़माने लग जाते है..

❤❤❤❤
Iss tarakki ke maayene bhi alag hai janab
Koi apne makano me khud ko khij raha
Koi aaj bhi maa ke sath hai..

इस  तरक्की के मायने  भी अलग है जनाब
कोई अपने मकानो मे खुद को ख़ोज  रहा
कोई आज भी मा के साथ है..

❤❤❤❤
Ye jindgi hai ya kashmash,kuch samajh nahi aata
Bas badalti hai to tareekhe,na waqt badalta,na mai..

ये जिंदगी है या कशमश,कुछ समझ नही आता
बस बदलती है तो तारीख़े,ना वक़्त बदलता,ना मै ..

❤❤❤❤
Ta-umar padhi kitaabe,kisi ne ye kyu nahi sikhaya
Ye zamana jazbaat se nahi,aukaat se chalta hai..

ता-उमर पढ़ी किताबे,किसी ने ये क्यू नही सिखाया
ये ज़माना जज़्बात से नही,औकात से चलता है..

Latest
Previous
Next Post »

Recent Updates