वफ़ा ना रास आई # Attaullah Khan Ghazal

Wafa na raas aayi tuje harjayi attaullah khan ghazal



" Dekhe hai yu to tumne kyi dushmani ke zakham
Aao dikhau aaj tumhe dosti ke zakham
Aadil na ho sakega tumse ilaaz-e-gam
Nasoor ban gaye hai meri jindgi ke zakham.."

Wafa na raas aayi tuje O harjaayi
Muje o bewafa jra ye to bata tune aag ye kaise lagayi....

Daulat ke nashe me tune nazro se apni dur kiya
Mere pyar ka sheesh mahal tune ek pal me chakna chur kiya...

Muje de ke yu gam aise kar ke sitam tune meri wafa thukrayi
Wafa na raas aayi tuje O harjaayi...

Tune roop khizao ka baksha mere gulshan ki haryali ko
Aabad nashemann tha jis par tune kaat diya us dali ko...

Mere cheen ke sukh diye hai tune dukh sari rasme kasme bhulayi
Wafa na raas aayi tuje O harjaayi...

Mohlat na mile sayad mujko ab tujse bichadke milne ki
Armaan huye sab khaak mere khawahish na rahi ab jeene ki..

Yaado ki chuban saaso ki agan mere mann hai aaj samayi
Wafa na raas aayi tuje O harjaayi...

Furkat ki lambi raato ka tune mujko zahar pilaya hai
Sahil pe pahuchne se pehle tune mera safina dubaya hai..

Ye Aah-o-fhuaa zakhmo ka dhua de ' ishrat ' ko saudayi
Wafa na raas aayi tuje O harjaayi...
❤❤❤❤


" देखे है यू तो तुमने की दुश्मनी के ज़ख़्म
आओ दिखाऊं आज तुम्हे दोस्ती के ज़ख़्म
आदिल ना हो सकेगा तुमसे इलाज़-ए-गम
नासूर बन गये है मेरी जिंदगी के ज़ख़्म.."

वफ़ा ना रास आई तुझे  ओ हरजाई
मुझे ओ बेवफा जरा ये तो बता तूने आग ये कैसे लगाई....

दौलत के नशे मे तूने नज़रो से अपनी दूर किया
मेरे प्यार का शीश महल तूने एक पल मे चकना चूर किया...

मुझे  दे के यू गम ऐसे कर के सितम तूने मेरी वफ़ा ठुकराई
वफ़ा ना रास आई तुझे ओ हरजाई...

तूने रूप ख़िज़ाओ का बख्शा  मेरे गुलशन की हरयाली  को
आबाद नशेमंन था जिस पर तूने काट दिया उस डाली को...

मेरे छीन  के सुख दिए है तूने दुख सारी रस्मे कसमे भुलाई
वफ़ा ना रास आई तुझे ओ हरजाई...

मोहलत ना मिले शायद  मुझको  अब तुज़से बिछड़ के मिलने की
अरमान हुए सब खाक मेरे खावहिश ना रही अब जीने की..

यादो की चुभन  सासो की अगन मेरे मन है आज समाई
वफ़ा ना रास आई तुझे ओ हरजाई...

फुरकत की लंबी रातो का तूने मुझको  ज़हर पिलाया है
साहिल पे पहुचने से पहले तूने मेरा सफ़ीना डुबया है..

ये आह -ओ - फ़ुआ ज़ख़्मो का धुआ दे  ' इशरत ' को सौदाई
वफ़ा ना रास आई तुझे ओ हरजाई...

Previous
Next Post »

Recent Updates