उर्दू है मेरा नाम # Iqbal Ashar Shayari




Urdu hai mera naam mai khusro ki paheli~ Iqbal Ashar Shayari


Urdu hai mera naam mai khusro ki paheli
Mai meer ki hamraaz galib ki saheli...

Dhakkan ke wali ne muje godi me khilaya
Sauda ke kasino ne mera husn badhaya..

Hai meer ki azmat ke muje chalna sikhaya
Mai daag ke aagan me khili banke chameli...

Galib ne bulandi ka safar mujko dikhaya
Haali ne murawwat ka sabak yaad dilaya..

Iqbal ne aaina-e-haq mujko dikhaya
Momin ne sajayi mere khawabo ki haweli..

Hai jok ki azmat ke diye mujko sahare
Jag-bast ki ulfat ne mere khawab saware..

Faani ne sazaye meri palko pe sitare
Akbar ne rachayi meri be-rang hatheli..

Kyu mujko banate ho tasub ka nishana
Maine to kabhi to khud ko musalma nahi mana..

Dekha tha kabhi maine bhi khushiyo ka zamana
Apne hi watan me hu magar aaj akeli..

Urdu hai mera naam mai khusro ki paheli
Mai meer ki hamraaz galib ki saheli...
❤❤❤❤


उर्दू है मेरा नाम मै ख़ुसरो की पहेली
मै मीर  की हमराज़ ग़ालिब की सहेली...

ढक्कन के वली ने मुझे गोदी मे खिलाया
सौदा के कसीनो ने मेरा हुस्न बढ़ाया..

है मीर  की अज़मत के मुझे चलना सिखाया
मै दाग के आगन मे खिली बनके चमेली...

ग़ालिब ने बुलंदी का सफ़र मुझको  दिखाया
हाली ने मुरव्वत का सबक याद दिलाया ..

इक़बाल ने आईना-ए-हक़ मुजको दिखाया
मोमिन ने सजाई मेरे खवाबो की हवेली..

है जोक  की अज़मत के दिए मुझको सहारे
जाग-बस्त की उलफत ने मेरे खवाब सावारे..

फानी ने सज़ाए मेरी पलकों  पे सितारे
अकबर ने रचाई मेरी बे-रंग हथेली..

क्यू मुझको  बनाते हो तासूब का निशाना
मैने तो कभी तो खुद को मुसलमा नही माना..

देखा था कभी मैने भी खुशियो का ज़माना
अपने ही वतन  मे हू मगर आज अकेली..

उर्दू है मेरा नाम मै ख़ुसरो की पहेली
मै मीर  की हमराज़ ग़ालिब की सहेली...

Previous
Next Post »

Recent Updates