मेरी मजबूरी ने मुजको कर दिया है बेवफा # Tahir Faraz Best Shayari

tahir faraz best shayari

Hai jitne khushnuma manjar badalte jaa rahe hai
Hamare ahad ke mehtaab dhalte jaa rahe hai..

Safar me kuch na kuch bhul mujse bhi hui hai
Jo peeche the mere aage nikalte jaa rahe hai..

Mere ghar mujko mere ehbaab sare liye jate hai
 par kandhe badalte ja rahe hai...

है जीतने खुशनुमा मंज़र बदलते जा  रहे है
हमारे अहद के महताब ढलते जा  रहे है..

सफ़र मे कुछ ना कुछ भूल मुझसे  भी हुई है
जो पीछे थे मेरे आगे  निकलते जा  रहे है..

मेरे घर मुझको  मेरे एहबाब सारे लिए जाते है
 पर कंधे बदलते जा रहे है...

❤❤❤❤
Narm bistar ki jagah khud ko bichaa lete hai log
Bajuo ko mod kar takia bna lete hai log..

Khush libasi ke liye saman ghar ka bech kar
Ho koi tyohaar to izzat bacha lete hai log...

Meri majburi ne mujko kar diya hai bewafa
Bhook ki shiddat me aksar me zahar kha lete hai log..

नर्म बिस्तर की जगह खुद को बिछा लेते है लोग
बाजुओ को मोड़ कर तकिया बना  लेते है लोग..

खुश लिबासी के लिए समान घर का बेच कर
हो कोई त्योहार तो इज़्ज़त बचा लेते है लोग...

मेरी मजबूरी ने मुझको  कर दिया है बेवफा
भूख  की शिद्दत मे अक्सर मे ज़हर खा लेते है लोग..
❤❤❤❤

Previous
Next Post »

Recent Updates