सब माया है सब ढलती फिरती छाया है # Attaullah Khan Ghazal

Sab maya hai sab dhalti firti chaya hai attaullah khan ghazal


Sab maya hai sab dhalti firti chaya hai
Iss ishq me hamne jo khoya jo paya hai

Jo tumne kaha hai faiz ne jo farmaya hai
Sab maya hai,sab maya hai...

Maloom hame sab qais miyaa ka kissa bhi
Sab ek se hai ye ranjha bhi ye insha bhi

Farhaad bhi jo ek nahar se khood ke laya hai
Sab maya hai,sab maya hai..

Wo ladki bhi jo chaand nagar ki rani thi
Wo jiski alhad aankho me hairaani thi..

Aaj usne bhi paigaam yahi bhijwaya hai
Sab maya hai,sab maya hai..

Jo log abhi tak naam wafa ka lete hai
Wo jaan ke dhokhe khaate dhokhe dete hai.

Ha thok baja kar hamne hukam lagaya hai
Sab maya hai,sab maya hai..

Jab dekh liya har shaksh yaha harjayi hai
Phir sahar se dur kutiya  hamne banayi hai..

Aur us kutiya ke mathe pe likhwaya hai..
Sab maya hai,sab maya hai...

Sab maya hai sab dhalti firti chaya hai
Iss ishq me hamne jo khoya jo paya hai..

❤❤❤❤

सब माया है सब ढलती फिरती छाया है
इस  इश्क़ मे हमने जो खोया जो पाया है

जो तुमने कहा है फ़ैज़ ने जो फरमाया है
सब माया है,सब माया है...

मालूम हमे सब क़ैस  मिया का किस्सा भी
सब एक से है ये रांझा भी ये इंशा भी

फरहाद भी जो एक नहर से खोद  के लाया है
सब माया है,सब माया है..

वो लड़की भी जो चाँद नगर की रानी थी
वो जिसकी अल्हड़ आँखो मे हैरानी थी..

आज उसने भी पैगाम यही भिजवाया है
सब माया है,सब माया है..

जो लोग अभी तक नाम वफ़ा का लेते है
वो जान के धोखे खाते धोखे देते है.

हा थोक बजा कर हमने हुक्म  लगाया है
सब माया है,सब माया है..

जब देख लिया हर शक्श  यहा हरजाई है
फिर शहर  से दूर कुटिया  हमने बनाई है..

और उस कुटिया के माथे पे लिखवाया है..
सब माया है,सब माया है...

सब माया है सब ढलती फिरती छाया है
इश्स इश्क़ मे हमने जो खोया जो पाया है

Previous
Next Post »

Recent Updates