प्यास दरिया की निगाहो से छुपा रखी है # Iqbal Ashar Shayari

iqbal ashar shayari


Kisi ko kaato se chot pahuchi ,kisi ko pholo ne maar dala
Jo iss musibat se bach gaye the , unhe usulo ne maar dala...

किसी को काटो से चोट पहुंची  ,किसी को फूलो ने मार डाला
जो इस मुसीबत से बच गये थे , उन्हे उसूलों ने  मार डाला...
❤❤❤❤

Labo ko tasbi du kali se,badan ko khilta gulab likhu
Mai khusbuo ki jubaa samaj lu to uske khat ka jawab likhu..

लबो को तसबी दू कली से,बदन को खिलता गुलाब लिखूं 
मै  खुसबुओ की जुबा समझ  लू तो उसके खत का जवाब लिखूं..
❤❤❤❤

Dayar-e-dil me naya-naya sachiraag koi jala raha hai
Mai jiski dastak ka muntjeer tha wo muje wo lamha bula raha hai
Tamaan rango se jindgi ke mera taruf kara raha hai
abhi wo mujko hasa raha tha,abhi wo mujko rula raha hai...

दायर-ए-दिल मे नया-नया सा  चिराग कोई जला रहा है
मै जिसकी दस्तक का मुंतजीर था वो मुझे  वो लम्हा बुला रहा है
तमाम  रंगो से जिंदगी के  मेरा तारूफ़ करा रहा है
अभी वो मुझको  हँसा  रहा था,अभी वो मुझको  रुला रहा है...
❤❤❤❤

Abhi wo roshni ki talab me gum hai,Mai khubuo ki talaash me hu
Mai dayere se nikal raha hu,Wo dayero me sama raha hai..
Suno samadar ki shok lehro hawa thehri hai tum bhi thehro
Wo dur sahil pe ek bacha abhi gharondhe bana raha hai..

अभी वो रोशनी की तलब मे गुम है,मै  खुबुओ की तलाश मे हू
मै दायरे  से निकल रहा हू,वो दायरे मे समा रहा है..
सुनो समुन्दर  की शोक लहरो हवा ठहरी है तुम  भी ठहरो
वो दूर साहिल पे एक बच्चा  अभी घरोंदे  बना रहा है..
❤❤❤

Teri julfo ki jaha baat nikal aati hai
dhoop ki oat se barsaat nikal aati hai..

Haste-haste chalak uthti hai ye kambakhat aankhe
Baato-baato me teri baat nikal aati hai..

Dil ki mitti se jayada nahi kuch bhi jarkhez 
Jab kuredo koi suagaat nikal aati hai..

तेरी ज़ुल्फो की जहा बात निकल आती है

धूप की ओट से बरसात निकल आती है..

हसते -हसते  छलख उठती है ये कम्बखत  आँखे
बातो-बातो मे तेरी बात निकल आती है..

दिल की मिट्टी से ज्यादा  नही कुछ भी जरखेज़
जब कुरेदो कोई सौगात  निकल आती है..
❤❤❤❤


Silsila khatam hua jalne jalane wala
Ab koi khawab nahi neend udane wala..
Kya kare aankh jo pathrane ki khawahish na kre
Khawab ho jaye agar khawab dikhane wala..
Yaad aata hai ke mai khud se yahi bichda tha
Yehi rasta hai tere sahar se jane wala...

सिलसिला ख़तम हुआ जलने जलाने वाला
अब कोई खवाब नही नींद उड़ाने वाला..
क्या करे आँख जो पथराने  की खावहिश ना करे 
खवाब हो जाए अगर खवाब दिखाने वाला..
याद आता है के मै  खुद से यही बिछड़ा था
यही रास्ता है तेरे शहर  से जाने वाला...
❤❤❤❤

Payas dariya ki nigaaho se chupa rakhi hai
Ek badal se badi aas laga rakhi hai...

Teri aankho ki kashish kaise tuje samjau
In chirago ne meri neend uda rakhi hai...

Teri baato ko chupana nahi aata mujse
Tune khuhbu mere lehze me basa rakhi hai...

Khud ko tanha na samajh lena naye diwaano
Khaak sehrayo ki hamne bhi uda rakhi hai...

प्यास  दरिया की निगाहो से छुपा रखी है
एक बादल से बड़ी आस लगा रखी है...

तेरी आँखो की कशिश कैसे तुझे समझाऊ 

इन चिरागो ने मेरी नींद उड़ा रखी है...

तेरी बातो को छुपाना नही आता मुजसे

तूने खुहबु मेरे लहज़े मे बसा रखी है...

खुद को तन्हा ना समझ लेना नये दीवानो

खाक सेहराहो की हमने  भी उड़ा रखी है...

Previous
Next Post »

Recent Updates