उनकी मस्त आखो से कुछ ऐसे अक़ीदत हो गयी # Attaullah Khan Sad Shayari


Attaullah Khan Sad Shayari in hindi

*** Attaullah Khan Sad Shayari in Hindi ***

Unki mast aakho se kuch aise aqidat ho gayi
Jaam majhab ban gaya sehba shariyat ho gae..

Pehle peete the koi maakul mauka dekh kar
Rafta rafta be-sabab peene ki adat ho gayi..

Ek sitara ,ek kali ,ek mai ka katra ,ek zulf
Jab ikhatthe ho gaye tameer-e-jannat ho gayi...

उनकी मस्त आखो से कुछ ऐसे अक़ीदत हो गयी 
जाम मज़हब बन गया सहबा शरीयत हो गयी ..

पहले पीते थे कोई माकूल मौका देख कर
रफ़्ता रफ़्ता बे-सबब पीने की आदत हो गयी ..

एक सितारा ,एक कली ,एक मय  का कतरा ,एक ज़ुलफ
जब इक्कठे हो गये तमीर-ए-जन्नत हो गयी ...

❤❤❤❤
Tu jo badla hai ye bhi bta de muje kya ,tu kismat meri bhi badal jayega
Mere pehlu se uth kar tu jata hai,  kya tu dil se bhi mere nikal jayega

Begair tumhare jee ke karuga bhi kya tod do ab mere dil ka har aasra
Jaan baki hai kar duga wo bhi fidaa ye bhi armaa tumhara nikal jayega..

Kya-kya sadme na gujre meri jaan pe,yad tumne kiya na  mujko bhul kar
Sari duniya to badli hai mujse magar kya khabar thi ke tu bhi badal jayega...

तू जो बदला है ये भी  बता  दे मुझे  क्या ,तू किस्मत मेरी भी बदल जाएगा
मेरे पहलू से उठ कर तू जाता है,  क्या तू दिल से भी मेरे निकल जाएगा

बेगैर तुम्हारे जी के करूगा भी क्या तोड़ दो अब मेरे दिल का हर आसरा
जान बाकी है कर दूँगा  वो भी फिदा ये भी अरमा  तुम्हारा निकल जाएगा..

क्या-क्या सदमे ना गुज़रे मेरी जान पे,याद तुमने किया ना  मुझको  भूल कर
सारी दुनिया तो बदली है मुझसे  मगर क्या खबर थी के तू भी बदल जाएगा...
❤❤❤❤
Jindgi jabr-e-musalsal ki tarh kati hai
Jane kis jurm ki paayi hai sza yaad nahi
Maine palko se dar-e-yaar pe dastak di hai
Mai wo saahil hu jise koi sda yaad nahi..

जिंदगी जबर-ए-मुसलसल की तरह कटी है
जाने किस जुर्म की पाई है सज़ा  याद नही
मैने पलकों  से दर-ए-यार पे दस्तक दी है
मै  वो साहिल हू जिसे कोई सदा  याद नही..

❤❤❤❤
Mubaraq ho aas bhi aaj meri bhuj gayi
Tere hijar ki raat bhi aaj lut gayi 
Jisko khatam karne ki jid thi un khawabo ki tabeer bhi bhuj gayi 
Mataam karu ya khushi manau mere ishq ki shamma aaj bhuj gayi .

मुबारक़ हो आस भी आज मेरी भुज गयी
तेरे हिजर की रात भी आज लूट गयी 
जिसको ख़तम करने की ज़िद थी उन खवाबो की तबीर भी भुज गयी 
मातम  करू या खुशी मनाऊ  मेरे इश्क़ की शम्मा आज भुज गयी ..


❤❤❤❤


Tu to nahi aaya teri yaad aake tera wada yaar wafa kar gayi
Mere ko taak rahi pal pal teri bechani mera chain tabah kar gayi
Dekha to laga ke tum aaye muje laga asar dua kar gayi
Jab dekha to kuch bhi nahi tha sayad mere sath majak hawa kar gayi...

तू तो नही आया तेरी याद आके तेरा वादा  यार वफ़ा कर गयी 
मेरे को ताक रही पल पल तेरी बेचानी मेरा चैन तबाह कर गयी
देखा तो लगा के तुम आए मुझे  लगा असर दुआ कर गयी 
जब देखा तो कुछ भी नही था शायद  मेरे साथ मज़ाक हवा कर गयी ...

❤❤❤❤
Hujur-e-husn se hi taqat-e-sawal-o-jawab
Tere karam ne hi mere haulse badhaye hai
Kitna dilkash tha wo shiddat-e-sharam se jab teri nazar sharmayi
Tune ungli me siyaah julf lapeti jis dam khud ba khud tere hotho pe hasi aayi...

हुजूर-ए-हुस्न से ही ताक़त-ए-सवाल-ओ-जवाब
तेरे करम ने ही मेरे हौसले  बढ़ाए है
कितना दिलकश था वो शिद्दत-ए-शरम से जब तेरी नज़र शरमाई
तूने उंगली मे सियाह जुल्फ लपेटी जिस दम खुद बा खुद तेरे होठों  पे हसी आई...

❤❤❤❤
Unki masroor nigaaho ke karishme tauba
Paak baazo ko bhi maikhaar bna dete hai
Aur pai-ba-pai julm-o-sitam raah-e-mohabbat me " Qamar"
Ek insaan ko fankaar bna dete hai..

उनकी मसरूर निगाहो के करिश्मे तौबा
पाक बाज़ो को भी मैखारबना  देते है
और पाई-बा-पाई ज़ुल्म-ओ-सितम राह-ए-मोहब्बत मे " क़मर"
एक इंसान को फनकार बना  देते है..


❤❤❤❤
Tere begair kabhi chain se basar na hui
Ye aur baat ke iski tuje khabar na hui..
Mai kehkasha me bhi tuje talaash kar leta
Magar ye kehkasha bhi teri reh-gujar na hui
Bda ajeeb tha tere dayaar ka rasta
Ke chandni bhi waha meri hamsaar na hui...

तेरे बेगैर कभी चैन से बसर ना हुई
ये और बात के इसकी तुझे  खबर ना हुई..
मै  कहकशा मे भी तुझे  तलाश कर लेता
मगर ये कहकशा भी तेरी रह-गुजर ना हुई
बड़ा  अजीब था तेरे दयार का रास्ता
के चाँदनी भी वहा मेरी हमसफ़र  ना हुई...

❤❤❤❤
Allah re zabeen-e-shok ke sazdo ki riqvate
Sar ko jaha jhuka diya kaba bna diya..
Tum hamare bano na bano hai tumko ikhtiyaar
Taqdeer ne tumko hamara bana diya...

अल्लाह रे ज़बीन-ए-शोक के सज़दो की रिक़वते 
सर को जहा झुका दिया काबा बना  दिया..
तुम हमारे बनो ना बनो है तुमको इकतियार
तक़दीर ने तुमको हमारा बना दिया...

❤❤❤❤
Agarche ek zamana ho gaya tarq-e-takhaluff ko
Tumhari yaad ab bhi taqleef deti hai..
Agar taqleef jayaz ho to ham seh le khamoshi se
Gila hai ke duniya bar-bar taqleef deti hai..

अगरचे एक ज़माना हो गया तर्क़-ए-तखलुफ्फ को
तुम्हारी याद अब भी तक़लीफ़ देती है..
अगर तक़लीफ़ जायज़ हो तो हम से ले खामोशी से
गीला है के दुनिया बार-बार तक़लीफ़ देती है..

❤❤❤❤
Raat lambhi bhi hai aur tarikh bhi ,shab gujari ka intzaam karo dosto..
Jane phir milna kab muqaddar me ho,apni apni kahani kaho dosto..
Mujhko maloom hai tum bhi meri tarh jaan aur dil ulfat me haar aaye ho
Ab ye baazi nye sire se mumkeen nahi ,apna anjaam khud soch lo dosto...

रात लंभी भी है और तारीख भी ,शब गुज़री का इंतज़ाम करो दोस्तो..
जाने फिर मिलना कब मुक़द्दर मे हो,अपनी अपनी कहानी कहो दोस्तो..
मुझको मालूम है तुम भी मेरी तरह जान और दिल उलफत मे हार आए हो
अब ये बाज़ी नए  सिरे से मुमकीन नही ,अपना अंजाम खुद सोच लो दोस्तो...


❤❤❤❤
Milega kya kisi majboor ko satane se 
Khuda se waste baaz aaja dil dukhane se
Tamaan umar ke rone se ye behtar tha
Ke baaz rehta mai ek baar dil lagane se...

मिलेगा क्या किसी मजबूर  को सताने से 
खुदा से वास्ते  बाज़ आ जा दिल दुखाने से
तमाम  उमर के रोने से ये बेहतर था
के बाज़ रहता मै  एक बार दिल लगाने से...

❤❤❤❤
 Tasleem apna gunah kar raha hu
Ha mai phir mohabbat kar raha hu...

 तस्लीम  अपना गुनाह कर रहा हू
हा मै फिर मोहब्बत कर रहा हू...

❤❤❤❤


Raaz-e-dil kyu na kahu saamne diwano ke
Ye to wo log hai jo apno ke na begano ke..

Wo bhi kya daur the saqi tere mastaano ke
Raaste raah taka karte the maikhano ke...

Wo bhi kya din the idhar sham udhar hath me jaam
Ab to raste bhi rahe yaad na maikhano ke..

राज़-ए-दिल क्यू ना कहु  सामने दीवानो के
ये तो वो लोग है जो अपनो के ना बेगानो के..

वो भी क्या दौर थे साक़ी तेरे मस्तानो के
रास्ते राह तका करते थे मैखानो के...

वो भी क्या दिन थे इधर शाम उधर हाथ मे जाम
अब तो रास्ते भी रहे याद ना मैखानो के..
❤❤❤❤
Iss may ke tarannum me jawani ko duba de
Neki ka agar daag bhi dil me hai hai to dho de
Yu jaam utha jhoom ke reh jaye zamana
Maikhane ka dar chum ke reh jaye zamana...

इस मय के तरन्नुम मे जवानी को डूबा दे
नेकी का अगर दाग भी दिल मे है है तो धो दे
यू जाम उठा झूम के रह जाए ज़माना
मैखाने का दर चूम के रह जाए ज़माना...

❤❤❤❤
Nagma-e-ishq sunata hu mai is shaan ke sath
Raksh karta hai zamana mere vajdaan ke sath..

Hai mera jok-e-junoo kufro khirat ki zad me
Ay khuda ab to utha le muje imaan ke sath..

Gam-e-jana-gam-e-hasti -gam-e-halat
Kya kahu kitni balaye hai meri jaan ke sath..

नगमा-ए-इश्क़ सुनाता हू मै इस शान के साथ
रक्ष करता है ज़माना मेरे वज़दान के साथ ..

है मेरा जोक-ए-जूनू कुफ्रो खीरत की ज़द मे
ए  खुदा अब तो उठा ले मुझे  ईमान के साथ..

गम-ए-जाना-गम-ए-हस्ती -गम-ए-हालत
क्या कहु कितनी बालाए है मेरी जान के साथ..

❤❤❤❤
Gam-e-jaha ke fasane talaash karte hai
Ye fitnagar to bahane talaash karte hai..
Ye intehaa hai junoo-e-hawas parasti ki
Paraye ghar me khazane talaash karte hai...

गम-ए-जहा के फसाने तलाश करते है
ये फीतनगर तो बहाने तलाश करते है..
ये इंतेहा है जूनू-ए-हवस परस्ती की
पराए घर मे ख़ज़ाने तलाश करते है...

❤❤❤❤
Koi aarzu nahi hai koi mudda nahi hai
Tera gam rahe salamat mere dil me kya nahi hai...

Kaha jaam-e-gam ki talkhi kaha jindgi ka darmaa
Muje wo dwa mili hai jo meri dwa nahi hai...

Tu bachaye lakh daman  mera phir bhi ye hai dawa
Tere dil me mai hi mai hu koi dusra nahi hai..

कोई आरज़ू नही है कोई मुद्दा नही है
तेरा गम रहे सलामत मेरे दिल मे क्या नही है...

कहा जाम-ए-गम की तल्खी कहा जिंदगी का दरमा 
मुझे वो दवा  मिली है जो मेरी दवा नही है...

तू बचाए लाख दामन  मेरा फिर भी ये है दावा 
तेरे दिल मे मै ही मै  हू कोई दूसरा नही है..

❤❤❤❤


Tumhe keh diya sitamgar ye kusoor tha zubaa ka
Muje tum maaf kar do mera dil bura nahi hai..

Muje dost kehne wale jra dosti nibhale
Ye mutalbaa hai haq ka koi iltzaa nahi hai..

Meri aankh ne bhi tujko ba-khuda mujsa paya
Mai samajh raha tha mujsa koi dusra nahi hai..

तुम्हें कह दिया सितमगर ये कुसूर था जुबां  का
मुझे  तुम माफ़ कर दो मेरा दिल बुरा नही है..

मुझे  दोस्त कहने वाले  जरा दोस्ती निभाले
ये मुतालबा है हक़ का कोई इलतज़ा नही है..

मेरी आँख ने भी तुझको  बा-खुदा मुझसा  पाया
मै  समझ रहा था मुझसा कोई दूसरा नही है..


❤❤❤❤
Kya kijiye shikwa duri ka milna bhi gazab ho jata hai
Jab saamne wo aa jate hai ehsaas-e-adab ho jata hai..
Maloom hai dil ki fitnagari phir bhi to nibhana padta hai
Iss ishq me aksar dushman ko seene se lagana padta hai..

क्या कीजिए शिकवा दूरी का मिलना भी ग़ज़ब हो जाता है
जब सामने वो आ जाते है एहसास-ए-अदब हो जाता है..
मालूम है दिल की फीतनागरी फिर भी तो निभाना पड़ता है
इस  इश्क़ मे अक्सर दुश्मन को सीने से लगाना पड़ता है..

❤❤❤❤
Ab to khushi ka gam hai na,gam ki khushi muje
Behish bana chuki hai bahut jindgi muje..
Yu diye fareb mohabbat ke umar bhar
Mai jindgi ko yaad karu aur jindgi muje..

अब तो खुशी का गम है ना,गम की ख़ुशी मुझे 
बेहिश बना चुकी है बहुत जिंदगी मुझे ..
यू दिए फरेब मोहब्बत के उमर भर
मै जिंदगी को याद करू और जिंदगी मुझे ..

❤❤❤❤
Khidar banke rahe zamane me
Khud jab bhatke to raasta na mile
Roshni baat te rahe hai logo me
Apne ghar ke liye diya na mila..

खिदर बनके रहे ज़माने मे
खुद जब भटके तो रास्ता ना मिले
रोशनी बाँटते  रहे है लोगो मे
अपने घर के लिए दिया ना मिला..

*** Attaullah Khan Sad Shayari in Hindi ***

Previous
Next Post »

Recent Updates