हालात मेरे इन दिनों पेचीदा बहुत है # Tahir Faraz Shayari

Tahir Faraz  Shayari Lyrics in Hindi

~~ Tahir Faraz  Shayari Lyrics in Hindi ~~



Halaat mere in dino pechida bahut hai
Julfo me kahi teri koi kham to nahi hai..

Seene se hatata hi nahi hath wo ladka
Dekho to sahi dil me wohi gam to nahi hai..

Chal maan liya tera koi dosh nahi tha
Halaki ki daleelo me teri dam to nahi...

हालात मेरे इन दिनों  पेचीदा बहुत है
ज़ुल्फो मे कही तेरी कोई ख़म तो नही है..

सीने से हटाता ही नही हाथ वो लड़का
देखो तो सही दिल मे वो ही गम तो नही है..

चल मान लिया तेरा कोई दोष नही था
हलकी की दलीलो मे तेरी दम तो नही...
❤❤❤❤
~~ Tahir Faraz  Shayari Lyrics in Hindi ~~

Sham-e-gam tujse jo dar jate hai
Shab gujar jaye to ghar jate hai..

Yu numaya tere kooche me
Ham jhukaye huye sar jate hai..

Ab ana ka hame paas bhi nahi
Wo bulate nahi par jate hai..

Waqt-e-rukhsat unhe rukhsat karne
Ham bhi tahat-e-nazar jate...

Yaad karte nahi jis din tuje ham
Apni nazro se utar jate hai...

Waqt se pooch raha hai koi
Zakham me kya wakey bhar jate hai..

Jindgi tere taqub me ham
Itna chalte hai ke mar jate hai...

Mujko tankeed bhali lagti hai 
Aap to hadd se gujar jate hai...
❤❤❤❤


शाम-ए-गम तुझसे  जो डर जाते  है
शब गुजर जाए तो घर जाते है..

यू नुमाया तेरे कूचे मे
हम झुकाए हुए सर जाते है..

अब अना का हमे पास भी नही
वो बुलाते नही पर जाते है..

वक़्त-ए-रुखसत उन्हे रुखसत करने
हम भी तहत-ए-नज़र जाते...

याद करते नही जिस दिन तुझे  हम
अपनी नज़रो से उतर जाते है...

वक़्त से पूछ  रहा है कोई
ज़ख़्म मे क्या वाक़ेय भर जाते है..

जिंदगी तेरे तक़ूब मे हम
इतना चलते है के मर जाते है...

मुझको  तनकीद भली लगती है 
आप तो हद  से गुजर जाते है...

~~ Tahir Faraz  Shayari Lyrics in Hindi ~~


Previous
Next Post »

Recent Updates