धूप मुजको जो लिए फिरती है साए-साए # Tahir Faraz Shayari

~Tahir Faraz Shayari

Tahir Faraz Shayari

Apni aankho me wo jo bark-e-shararr rakhte hai
Ham bhi suraj ko bhujane ka hunar rakhte hai...

Haadse kya huye raste me muje yaad nahi
Aamle paav ke tafseele safar rakhte hai...

Kaise manu ke zamane ki khabar rakhti hai
Gardish-e-waqt to bas mujpe nazar rakhti hai

Mere pairo ki thakan ruth na jana mujse
Ek tu hi to mera raaz-e-safar rakhti hai...

Dhoop mujko jo liye firti hai saaye-saaye
Hai to aawara magar zehan me ghar rakhi hai

Dosti tere darakhto me hawaye bhi nahi
Dusmani apne darakhto me samar rakhti hai...
❤❤❤❤
अपनी आँखो मे वो जो बर्क-ए-शरर्र रखते है
हम भी सूरज को भुजाने का हुनर रखते है...

हादसे क्या हुए रास्ते मे मुझे  याद नही
आमले पाव के तफ़सीले सफ़र रखते है...

कैसे मानू  के ज़माने की खबर रखती है
गर्दिश-ए-वक़्त तो बस मुजपे नज़र रखती है

मेरे पैरो की थकान रूठ ना जानामुझसे 
एक तू ही तो मेरा राज़-ए-सफ़र रखती है...

धूप मुझको  जो लिए फिरती है साए-साए
है तो आवारा मगर ज़हन मे घर रखी है

दोस्ती तेरे दरखतो मे हवाए भी नही
दुश्मनी अपने दरखतो मे समर रखती है...

Safar mana mera jari nahi~Tahir Faraz Shayari


Safar mana mera jari nahi hai magar himmat abhi haari nahi hai
Bujrago se maafi chahata hu kisi ke baski sardari nahi hai
Fazaa me har tarf cheekhe hai tahir kisi bache ki kilkaari nahi hai...

सफ़र माना मेरा जारी नही है मगर हिम्मत  अभी हारी नही है
बुजर्गो से माफी चाहता हू किसी के बस की सरदारी नही है
फ़ज़ा मे हर तरफ़ चीखे है ताहिर किसी बच्चे की किल्कारी नही है...

Jab kabhi bolna waqt par bolna~Tahir Faraz Shayari

Jab kabhi bolna waqt par bolna
muddato sochna muktasar bolna...

Daal dega halaqat me ek din tujhe
Ay parinde tera shaak par bolna...

Pehle kuch dur tak chal ke parkh
Phir muje hamsafar -hamsafar bolna...

Umar bhar ko muje be-sda kar gya
Tera ek bar muh pher kar bolna...

Meri khana badoshi se puche koi
Kitna mushkil hai raste ko ghar bolna...

Umar bhar tujko rakhega gar me safar
Manzilo ko tera rehgujar bolna...

Kyu hai khamosh sone ki chidiya bta
Lag gyi tujko kiski nazar bolna...
❤❤❤❤
जब कभी बोलना वक़्त पर बोलना
मुद्दतों  सोचना मुख़्तसर बोलना...

डाल देगा हलाक़ात मे एक दिन तुझे
ए  परिंदे तेरा शाक पर बोलना...

पहले कुछ दूर तक चल के परख
फिर मुझे हमसफ़र -हमसफ़र बोलना...

उमर भर को मुझे  बे-सदा  कर गया
तेरा एक बार मूह फेर कर बोलना...

मेरी खाना बदोशी से पूछे कोई
कितना मुश्किल है रास्ते को घर बोलना...

उमर भर तुझको  रखेगा गर मे सफ़र
मंज़िलो को तेरा  रहगुजर बोलना...

क्यू है खामोश सोने की चिड़िया बता
लग गयी  तुझको  किसकी नज़र बोलना...


Goshe badal badal ke har raat kaat di~Tahir Faraz Shayari

Goshe badal badal ke har raat kaat di
Kache makaa me ab ke bhi barsaat kaat di...

Wo sar bhi kaat deta to hota na kuch malaal
Afsos hai ye usne meri baat kaat di...

Halaki ham mile badi muddato ke baad
Aukaat ki kami ne mulaqaat kaat di...

Jab bhi hame chiraag mayassar na aa ska
Suraj ke jikar se shab-e-zulmaat kaat di..

Dil bhi lahu-luhaan hai aankhe bhi hai udaas
Shayad ana ne sharage jazbaat kaat ki..

Jadugari ka khel aadhura hi reh gya
Darwesh ne shabi-e-tilsamaat kaat di...

Thandi hawaye mehki fizaa,narm chaandni
Shab to bas ek thi jo tere sath kaat li...
❤❤❤❤
गोशे बदल बदल के हर रात काट दी
कच्चे मकाँ  मे अब के भी बरसात काट दी...

वो सर भी काट देता तो होता ना कुछ मलाल
अफ़सोस है ये उसने मेरी बात काट दी...

हालाकी हम मिले बड़ी मुद्दतों  के बाद
औकात की कमी ने मुलाक़ात काट दी...

जब भी हमे चिराग मयस्सर ना आ सका
सूरज के जिक्र  से शब-ए-जुल्मत काट दी..

दिल भी लहू-लुहान है आँखे भी है उदास
शायद अना ने शारगे जज़्बात काट की..

जादूगरी का खेल आधूरा ही रह गया
दरवेश ने शाबी-ए-तिलसामात काट दी...

ठंडी हवाए महकी फ़िज़ा,नर्म चाँदनी
शब तो बस एक थी जो तेरे साथ काट ली...

Previous
Next Post »

Recent Updates