किसने दस्तक दी ये दिल पर कौन है # Rahat Indori Shayari

rahat indori shayari in hindi

*** Rahat Indori Shayari***



Kisne dastak di ye dil par kaun hai
Aap to andar hai phir bahar kaun hai..

किसने दस्तक दी ये दिल पर कौन है
आप तो अंदर है फिर बाहर कौन है..
❤❤❤❤
Jawan aankho ke jugnu chamak rahe hoge
Ab apne gaw me amrood pak rahe hoge..

Bhula de mujko magar meri ungliyo ke nishaa
Tere badan pe abhi tak chamak rahe hoge..

जवान आँखो के जुगनू चमक रहे होगे
अब अपने गाँव  मे अमरूद पक रहे होगे..

भुला दे मुझको  मगर मेरी उंगलियो के निशा
तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होगे..
❤❤❤❤
Aag ke paas kabhi mom ko lakar dekhu
Ho ijazat to tuje hath lgakar dekhu..

Mann ka mandir bda veeran nazar aata hai
Scohta hu teri tasveer laga kar dekhu...

आग के पास कभी मोम  को लाकर देखू 
हो इजाज़त तो तुझे हाथ लगाकर  देखू ..

मन  का मंदिर बड़ा  वीरान नज़र आता है
सोचता  हू तेरी तस्वीर लगा कर देखू ...
❤❤❤❤
Meri saaso me samaya bhi bahut lagta hai
Wahi shaksh paraya bhi bahut lagta hai...

Usse milne ki tamanna bhi bahut hai
Lekin aane jane me kiraya bhi bahut lagta hai...

मेरी सासो मे समाया भी बहुत लगता है
वही शक्श पराया भी बहुत लगता है...

उससे मिलने की तमन्ना भी बहुत है
लेकिन  आने जाने मे किराया  भी बहुत लगता है...

❤❤❤❤
Faisla jo kuch bhi ho manjur hona chahiye
Jang ho ya ishq ho bharpur hona chahiye..

Kat chuki umar sari jinki phattar todte
Ab to in hatho me kohinoor hona chaiye..

फ़ैसला जो कुछ भी हो मंजूर होना चाहिए 
जंग हो या इश्क़ हो भरपूर होना चाहिए
काट चुकी उमर सारी जिनकी पत्तर  तोड़ते
अब तो इन हाथो मे कोहिनूर होना चाहिए ..

*** Rahat Indori Shayari in Hindi ***



❤❤❤❤
Ham apni ke dushman ko jaan kehte hai
Mohabbat isi mohabbat ko hindustaan kehte hai..

Jo ye diwar ka suraq hai saazish ka hissa hai
Magar ham ise apne ghar ka roshan daan kehte hai..

Jo duniya ko sunayi de use kehte hai khamoshi
Jo aankho me dikhayi de use tufaan kehte hai..

हम अपनी के दुश्मन को जान कहते है
मोहब्बत इसी मोहब्बत को हिन्दुस्तान कहते है..

जो ये दीवार का सुराक़ है साज़िश का हिस्सा है
मगर हम इसे अपने घर का रोशन दान कहते है..

जो दुनिया को सुनाई दे उसे कहते है खामोशी
जो आँखो मे दिखाई दे उसे तूफान कहते है..

❤❤❤❤
Sirf khanjar hi nahi aankho me pani chaiye
Ay khuda dushman bhi mujko khaandani chaiye..

Maine apni khushk aakho se lahu chalka diya
Samundar keh raha tha muje pani chaiye...

सिर्फ़ खंजर ही नही आँखो मे पानी चाहिए 
आय खुदा दुश्मन भी मुजको खानदानी चाहिए..

मैने अपनी खुश्क आखो से लहू छलका दिया
समुंदर कह रहा था मूज़े पानी चाहिए...

❤❤❤❤
Jo daur ka duniya ka usi daur se bolo
Behro ka ilaka hai zra jor se bolo...

Delhi me ham hi bola kare aman ki boli
Yaro kabhi tum log bhi lahore se bolo...

जो दौर का दुनिया का उसी दौर से बोलो
बहरो का इलाक़ा है ज़रा ज़ोर से बोलो...

दिल्ली  मे हम ही बोला करे अमन की बोली
यारों कभी तुम लोग भी लाहोर से बोलो...

❤❤❤❤
Suraj ,sitaare,chand mere sath me rahe
Jab tak tumhare hath mere hath me rahe

Shakho se toot jaye wo patte nahi hai ham
Aandhi se koi keh de aukaat me rahe...

सूरज ,सितारे,चाँद मेरे साथ मे रहे
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ मे रहे

शाखो से टूट जाए वो पत्ते नही है हम
आँधी से कोई कह दे औकात मे रहे...
Previous
Next Post »

Recent Updates