इतना भी करम उनका कोई कम तो नही # Tahir Faraz Shayari


tahir faraz shayari in hindi

*** Best of Tahir Faraz ***

Meri nazar ko,Mere zahan ko,mere dil ko tumhari shok adao ne jindgi di hai
Khuda to deta hai sabko muje waseele se tumne shayari di hai...

मेरी नज़र को,मेरे ज़हन को,मेरे दिल को तुम्हारी शोक अदाओ  ने जिंदगी दी है
खुदा तो देता है सबको मुझे  वसीले से तुम ने शायरी दी है...
❤❤❤❤
Yu jannat me ghar apna aabad karna
Gareebo yateemo ki imdaad karna...

यू जन्नत मे घर अपना आबाद करना
ग़रीबो यतीमो की इमदाद करना...
❤❤❤❤
Chupaya raaz yu tishna labi ka
Samandar pee gya pani nadi ka..
Hawa aati hai ikhlaasho wafa ki
Mere ghar ped hai pichli sdi ka...
Wo apne ghar me hi ab ajnabi hai
Natija ye hua aawargi ka...

छुपाया राज़ यू तिश्ना लबी का
समंदर पी गया पानी नदी का..
हवा आती है इखलाशो वफ़ा की
मेरे घर पेड़ है पिछली सदी  का...
वो अपने घर मे ही अब अजनबी है
नतीजा ये हुआ आवारगी का...
❤❤❤❤


Ab isse badh ke aur sza kya hamari hai
Tumhare ahad me jo jindgi gujari hai..

Karhata hua suraj ye keh kar doob gaya
Wo jang jeeti hui thi jo maine haari hai..

Khila hua tere mathe pe hai kala gulab
Bdi ke baak pe tanha ye phool bhari hai..

Nazar bacha ke gujarte hai to gujar jao
Mai aaine hu meri apni jimmedari hai..

अब इससे बढ़ के और सज़ा  क्या हामारी है
तुम्हारे अहद मे जो जिंदगी गुजारी  है..

करहाता हुआ सूरज ये कह कर डूब गया
वो जंग जीती हुई थी जो मैने हारी है..

खिला हुआ तेरे माथे पे है कला गुलाब
बदी के बाक पे तन्हा ये फूल भारी है..

नज़र बचा के गुज़रते है तो गुजर जाओ
म्य आइना  हू मेरी अपनी ज़िम्मेदारी है..
❤❤❤❤

Banti bigdti zahan me yu tadbeere aati hai
Jaise huye udte badlo me tasveere aati hai..

Saare mansab saare tamge unke hisse me
Apni jholi me khali teqreere aati hai..

Jinke kandho pe hota hai bojh zamane ka
Unke pairo me aksar zanjeere aati hai...

Khawab na dekhe hamko mitaane ka unse keh do
Aksar khawabo ki ulti tabeere aati hai..

बनती बिगड़ती ज़हन  मे यू तदबीरे आती है
जैसे हुए उड़ते बदलो मे तस्वीरे आती है..

सारे मनसब सारे तमगे उनके हिस्से मे
अपनी झोली मे खाली तक़रीरे आती है..

जिनके कंधो पे होता है बोझ ज़माने का
उनके पैरो मे अक्सर ज़ंजीरे आती है...

खवाब ना देखे हमको मिटाने का उनसे कह दो
अक्सर खवाबो की उल्टी ताबीरे आती है..
❤❤❤❤
*** Best of Tahir Faraz Shayari ***
Itna bhi karam unka koi kam to nahi hai
Gam deke wo puche hai koi gam to nahi hai..

Naksha jo muje khuld me dikhlaya gya tha
Aisa hi be-aalam ye wo aalam to nahi hai..

इतना भी करम उनका कोई कम तो नही है
गम दे के वो पूछे है कोई गम तो नही है..

नक्शा जो मूज़े ख़ुल्द  मे दिखलाया गया था
ऐसा ही बे-आलम ये वो आलम तो नही है..



❤❤❤❤
Previous
Next Post »

Recent Updates