बिन तेरे आवाज़ यू दिल से आती है # Attaullah Khan Ghazal

Bin Tere Aawaz Yo Dil Se Aati Hai # Attaullah Khan Ghazal

Bin Tere Aawaz Yo Dil Se Aati Hai Attaullah Khan Ghazal



Bin tere aawaz yo dil se aati hai
Jaise bichdi pooch koi pur lati hai..

Jal uthte hai deep ashqo ke palko par
Raat judai ki jab sar pe aati hai..

Yaad aata hai saya teri qurbat
Teri furqat ki jab dhoop jalati hai..

Bhulne wale tujko kuch ehsaas nahi
Teri yaad muje kitna tadpati hai..

Bin tere aawaz yo dil se aati hai
Jaise bichdi pooch koi pur lati hai..

Maut se pehle dekh to lu ek bar tuje
Aaja ab to jaan nikalti jati hai..

Kaise tera dard chupau duniya se
Har ek zakham se teri khushbu aati hai..

Kaun tuje samjhaye naaz jawani me
Tanhayi se jaan bahut ghabrati hai..

Bin tere aawaz yo dil se aati hai
Jaise bichdi pooch koi pur lati hai..
❤❤❤❤
बिन तेरे आवाज़ यू  दिल से आती है
जैसे बिछड़ी पूच कोई पुर  लाती है..

जल उठते है दीप अश्को के पलकों  पर
रात जुदाई की जब सर पे आती है..

याद आता है साया तेरी क़ुरबत
तेरी फुरक़त की जब धूप जलाती है..

भूलने वाले  तुझको  कुछ एहसास नही
तेरी याद मुझे  कितना तड़पाती है..

बिन तेरे आवाज़ यू  दिल से आती है
जैसे बिछड़ी पूच कोई पुर लाती है..

मौत से पहले देख तो लू एक बार तुझे 
आजा अब तो जान निकलती जाती है..

कैसे तेरा दर्द छुपाऊ  दुनिया से
हर एक ज़ख़्म से तेरी खुश्बू आती है..

कौन तुझे  समझाए नाज़ जवानी मे
तन्हाई से जान बहुत घबराती है..

बिन तेरे आवाज़ यू  दिल से आती है
जैसे बिछड़ी पूच कोई पुर लाती है..

Previous
Next Post »

Recent Updates