Qasid Unka Aata Hai Yahi Paigaam Lekar # Attaullah Khan Ghazal

Qasid Unka Aata Hai Yahi Paigaam Lekar # Attaullah Khan Ghazal

Qasid Unka Aata Hai Yahi Paigaam Lekar # Attaullah Khan Ghazal

Qasid unka aata hai yahi paigaam lekar
Ke tanha rote hai aksar wo tera naam lekar..

kabhi ham dekhte the raah tere chalne ki qasid
aur unke peeche firte the khato ka naam lekar..

ye khali to nahi hai mai se teri madbhari aankhe
To kyu aa rahe hai rind khali jaam lekar..

Qasid unka aata hai yahi paigaam lekar
Ke tanha rote hai aksar wo tera naam lekar..

na aayi maut hi hamko na hi wo laut ke aaya
jiye jate hai wo ham jis bewafa ka naam le lekar..

dil ke khel me hamko mile jo zakham yado ke
chupa ke dil me rakhe hai sabhi ilzaam lekar..

Khisak ke dosti sadiq chalo ab maut se kar le..
Jiyege jindgi kab tak ilzaam le lekar..

Qasid unka aata hai yahi paigaam lekar
Ke tanha rote hai aksar wo tera naam lekar..
❤❤❤❤
क़ासिद उनका आता है यही पैगाम लेकर
के तन्हा रोते है अक्सर वो तेरा नाम लेकर..

कभी हम देखते थे राह तेरे चलने की क़ासिद
और उनके पीछे फिरते थे खतो का नाम लेकर..

ये खाली तो नही है मय से तेरी मदभरी आँखे
तो क्यू आ रहे है रिन्द  खाली जाम लेकर..

क़ासिद उनका आता है यही पैगाम लेकर
के तन्हा रोते है अक्सर वो तेरा नाम लेकर..

ना आई मौत ही हमको ना ही वो लौट के आया
जिए जाते है वो हम जिस बेवफा का नाम ले लेकर..

दिल के खेल मे हमको मिले जो ज़ख़्म यादो के
छुपा के दिल मे रखे है सभी इल्ज़ाम लेकर..

खिसक के दोस्ती सादिक़ चलो अब मौत से कर ले..
जियेंगे  जिंदगी कब तक इल्ज़ाम ले लेकर..

क़ासिद उनका आता है यही पैगाम लेकर
के तन्हा रोते है अक्सर वो तेरा नाम लेकर..

Previous
Next Post »

Recent Updates