Hai Ye Unki Aaj Mujpar Yaaro Kaise Meharbani # Attaullah Khan Ghazal

Hai Ye Unki Aaj Mujpar Yaaro Kaise Meharbani # Attaullah Khan Ghazal

Hai Ye Unki Aaj Mujpar Yaaro Kaise Meharbani # Attaullah Khan Ghazal

Hai ye unki aaj mujpar yaaro kaise meharbani
Ke maze se sun rahe hai mere dard ki kahani...

Naam uska leke yaaro mere zakham ko na chedo
Hai ye dard bhi purana hai bhi bat bhi purani ..

Duniya ka kuch pta na ,apni khabar hai mujko
Tere dard ne hai bakshi muje aise jindgani..

Hai ye unki aaj mujpar yaaro kaise meharbani
Ke maze se sun rahe hai mere dard ki kahani...

Gaye bhul hai wo tujko mere pyar ke zamane
Jab tune dil diya tha muje pyar ki nishani..

Tuje Dhundhta raha hu aankho me ashq lekar
Tere hijar me gujaari ro-ro ke ye jawani..

Hai ye unki aaj mujpar yaaro kaise meharbani
Ke maze se sun rahe hai mere dard ki kahani...

Gulshan khula hai dil ka kuch phool ham chun le
Shayad ye phir na lote rut pyar ki suhaani..

Duniya se chhip gaya hai sadiq na usko dhundho
Ab wo na mil sakega karo khatam ye kahani..

Hai ye unki aaj mujpar yaaro kaise meharbani
Ke maze se sun rahe hai mere dard ki kahani...
❤❤❤❤

है ये उनकी आज मुझपर  यारो कैसे मेहरबानी
के मज़े से सुन रहे है मेरे दर्द की कहानी...

नाम उसका लेके यारो मेरे ज़ख़्म को ना छेड़ो
है ये दर्द भी पुराना है भी बात भी पुरानी  ..

दुनिया का कुछ पता ना ,अपनी खबर है मुजको
तेरे दर्द ने है बक्शी मुझे  ऐसे जिंदगानी..

है ये उनकी आज मुझपर  यारो कैसे मेहरबानी
के मज़े से सुन रहे है मेरे दर्द की कहानी...

गये भूल है वो तुझको मेरे प्यार के ज़माने
जब तूने दिल दिया था मुझे प्यार की निशानी..

तुझे  ढूंढता रहा हू आँखो मे अश्क़ लेकर
तेरे हिजर मे गुजारी रो-रो के ये जवानी..

है ये उनकी आज मुझपर  यारो कैसे मेहरबानी
के मज़े से सुन रहे है मेरे दर्द की कहानी...

गुलशन खुला है दिल का कुछ फूल हम चुन ले
शायद  ये फिर ना लोटे रुत प्यार की सुहानी..

दुनिया से छुप  गया है सादिक़ ना उसको ढुंढ़ो
अब वो ना मिल सकेगा करो ख़तम ये कहानी..

है ये उनकी आज मुझपर  यारो कैसे मेहरबानी
के मज़े से सुन रहे है मेरे दर्द की कहानी...

Previous
Next Post »

Recent Updates