Bichad Gya Hai To Mai Bhi Use Bhula Duga # Attaullah Khan Ghazal

Bichad Gya Hai To Mai Bhi Use Bhula Duga # Attaullah Khan Ghazal

Bichad Gya Hai To Mai Bhi Use Bhula Duga # Attaullah Khan Ghazal
Bichad gaya hai to mai bhi use bhula duga
Maruga khud bhi use bhi kadi sza duga..

Jala rahi hai mera dil nishaniya teri
Mai tere khat,teri tasveer bhi jala duga..

Wafa karuga kisi sogavar chehre se
Purani kabar par kutub nya sza duga..

Bichad gaya hai to mai bhi use bhula duga
Maruga khud bhi use bhi kadi sza duga..

Ye peergi mere ghar ka hi kyu muqaddar ho
Mai tere sahar ke saare diye bhuja duga..

Tu aasma ki surat hai gir padega abhi
Zameen hu magar tuje aasra duga..

Bichad gaya hai to mai bhi use bhula duga
Maruga khud bhi use bhi kadi sza duga..
❤❤❤❤
बिछड़ गया है तो मै  भी उसे भुला दूँगा 
मरूगा खुद भी उसे भी कड़ी सज़ा  दूँगा ..

जला रही है मेरा दिल निशानिया तेरी
मै  तेरे खत,तेरी तस्वीर भी जला दूँगा 

वफ़ा करूगा किसी सोगावार चेहरे से
पुरानी कबर पर कुतुब नया  सज़ा दूँगा ..

बिछड़ गया है तो मै  भी उसे भुला दूँगा 
मरूगा खुद भी उसे भी कड़ी सज़ा  दूँगा ..

ये पीरगी मेरे घर का ही क्यू  मुक़द्दर हो
मै  तेरे शहर  के सारेदिये  भुजा दूँगा ..

तू आस्मा की सूरत है गिर पड़ेगा अभी
ज़मीन हू मगर तुझे  आसरा दूँगा ..

बिछड़ गया है तो मै  भी उसे भुला दूँगा 
मरूगा खुद भी उसे भी कड़ी सज़ा  दूँगा ..

Previous
Next Post »

Recent Updates