Umar Qaid Hogi kya Hai Faisla Adalat Ka # Attaullah Khan Ghazal

Umar Qaid Hogi kya Hai Faisla Adalat Ka # Attaullah Khan Ghazal

Umar Qaid Hogi kya Hai Faisla Adalat Ka # Attaullah Khan Ghazal


" Adalat husn ki hogi muqaddma tere ishq ka hoga
Gawahi mere dil ki hogi ,aur mujrim tera pyar hoga.."

Umar qaid hogi kya hai faisla adalat ka
Muqaddma chalega yaar aaj mohabbat ka...

Thehar ja o sangdil sza meri sun le
Jo bachi hai kaliya wo bhi tu chune le
Tujse mel ho na paya hai khel kismat ka...

jurm tha tumhara mera naam likhwa ke
Khada kar diya hai khatghere me lake
Sza milte hi dam tootega mere jazbaat ka..

Umar qaid hogi kya hai faisla adalat ka
Muqaddma chalega yaar aaj mohabbat ka...

Sitamgar gawahi hogi mere dil ki
Dekh sakuga sayad ghadi yaar kal ki
Faisla sunaya jaaye aaj haar-jeet ka ..

" Queshi " tumhari sza seh raha hai
Salakho ke peeche wo reh raha hai
Tamsha banaya tumne meri gurbat ka..

Umar qaid hogi ye tha fasila adalat ka
Haar gaye muqaddama yaar aaj mohabbat ka..

Umar qaid hogi kya hai faisla adalat ka
Muqaddma chalega yaar aaj mohabbat ka...
❤❤❤❤
 अदालत हुस्न की होगी मुक़द्दमा तेरे इश्क़ का होगा
गवाही मेरे दिल की होगी ,और मुजरिम तेरा प्यार होगा.."

उमर क़ैद होगी क्या है फ़ैसला अदालत का
मुक़द्दमा चलेगा यार आज मोहब्बत का...

ठहर जा ओ संगदिल सज़ा  मेरी सुन ले
जो बची है कालिया वो भी तू चुने ले
मतुझसे  मेल हो ना पाया है खेल किस्मत का...

जुर्म था तुम्हारा मेरा नाम लिखवा के
खड़ा कर दिया है खटघेरे मे ला के 
सज़ा  मिलते ही दम टूटेगा मेरे जज़्बात का..

उमर क़ैद होगी क्या है फ़ैसला अदालत का
मुक़द्दमा चलेगा यार आज मोहब्बत का...

सितमगर गवाही होगी मेरे दिल की
देख सकूँगा  शायद  घड़ी यार कल की
फ़ैसला सुनाया जाए आज हार-जीत का ..

" कुरैशी " तुम्हारी सज़ा  सह  रहा है
सलाखो के पीछे वो रह रहा है
तमाशा  बनाया तुमने मेरी ग़ुरबत का..

उमर क़ैद होगी ये था फ़ैसला  अदालत का
हार गये मुक़द्दमा यार आज मोहब्बत का..

उमर क़ैद होगी क्या है फ़ैसला अदालत का
मुक़द्दमा चलेगा यार आज मोहब्बत का...

Previous
Next Post »

Recent Updates