Mera Dard Tum Na Samaj Sake # Attaullah Khan Ghazal

Mera Dard Tum Na Samaj Sake # Attaullah Khan Ghazal

Mera Dard Tum Na Samaj Sake # Attaullah Khan Ghazal

Mera Dard Tum Na Samaj Sake ,Muje sirf iska malaal hai
Jra phir samaj ke jawab do meri jindgi ka sawaal hai..

Mai ye dil ke zakhmo ko dekh kar ,kabhi hasta hu kabhi rota hu
Muje dushmano se gila nahi ,mere dosto ki ye chaal hai..

Yaha aashu hai meri laash par ,waha teri doli me hai hai khushi
yaha jindgi ka sawaal hai,waha jindgi ka kamaal hai..

Aye zamane mera kar faisla,jra paas aake tabahi ka
Mai gamo ka jeeta sabut hu,wo khusi ki jinda misaal hai..

Shab-e-hijar ki ye chuban hai kya,tu hai sangdil tuje kya khabar
kabhi dekh aake o bewafa,,mere dil ka aaj jo haal hai..

Mera Dard Tum Na Samaj Sake ,Muje sirf iska malaal hai
Jra phir samaj ke jawab do meri jindgi ka sawaal hai..
❤❤❤❤


मेरा दर्द तुम ना समझ  सके ,मुझे  सिर्फ़ इसका मलाल है
जरा फिर समझ के जवाब दो ,मेरी जिंदगी का सवाल है..

मै  ये दिल के ज़ख़्मो को देख कर ,कभी हसता  हू कभी रोता हू
मुजे  दुश्मनो से गीला नही ,मेरे दोस्तो की ये चाल है..

यहा आंसू  है मेरी लाश पर ,वहा तेरी डॉली मे है है खुशी
यहा जिंदगी का सवाल है,वहा जिंदगी का कमाल है..

ए ज़माने मेरा कर फ़ैसला,जरा पास आ के तबाही का
मै  गमो का जीता  सबूत हू,वो ख़ुशी  की जिंदा मिसाल है..

शब-ए-हिजर की ये चुबन है क्या,तू है संगदिल तुझे  क्या खबर
कभी देख आके ओ बेवफा,,मेरे दिल का आज जो हाल है..

मेरा दर्द तुम ना समझ  सके ,मुझे  सिर्फ़ इसका मलाल है
जरा फिर समझ के जवाब दो ,मेरी जिंदगी का सवाल है..

Previous
Next Post »

Recent Updates