Teri Khushi Se Agar Gam Me Bhi Khushi Na Hui-Jigar Moradabadi Shayari

,

Teri Khushi Se Agar Gam Me Bhi Khushi Na Hui-Jigar Moradabadi Shayari

Teri Khushi Se Agar Gam Me Bhi Khushi Na Hui-Jigar Moradabadi Shayari

तेरी खुशी से अगर गम में भी खुशी न हुई
वो ज़िंदगी तो मुहब्बत की ज़िंदगी न हुई!

कोई बढ़े न बढ़े हम तो जान देते हैं
फिर ऐसी चश्म-ए-तवज्जोह कभी हुई न हुई!

तमाम हर्फ़-ओ-हिकायत तमाम दीदा-ओ-दिल
इस एह्तेमाम पे भी शरह-ए-आशिकी न हुई

सबा यह उन से हमारा पयाम कह देना
गए हो जब से यहां सुबह-ओ-शाम ही न हुई

इधर से भी है सिवा कुछ उधर की मजबूरी
कि हमने आह तो की उनसे आह भी न हुई

ख़्याल-ए-यार सलामत तुझे खुदा रखे
तेरे बगैर कभी घर में रोशनी न हुई

गए थे हम भी जिगर जलवा-गाह-ए-जानां में
वो पूछते ही रहे हमसे बात ही न हुई
-Jigar Moradabadi Shayari

0 comments to “Teri Khushi Se Agar Gam Me Bhi Khushi Na Hui-Jigar Moradabadi Shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy