Shakh Par Khoone Gul Rawan Hai Wahi -Faiz Ahmad Faiz

Shakh Par Khoone Gul Rawan Hai Wahi -Faiz Ahmad Faiz

Shakh Par Khoone Gul Rawan Hai Wahi -Faiz Ahmad Faiz

शाख़ पर ख़ूने-गुल रवाँ है वही
शोख़ी-ए-रंगे-गुलसिताँ है वही 

सर वही है तो आस्ताँ  है वही
जाँ वही है तो जाने-जाँ है वही 

अब जहाँ मेहरबाँ नहीं कोई
कूचः-ए-यारे-मेहरबाँ है वही 

बर्क़ सौ बार गिरके ख़ाक हुई
रौनक़े-ख़ाके-आशियाँ है वही 

आज की शब विसाल की शब है
दिल से हर रोज़ दासताँ है वही 

चाँद-तारे इधर नहीं आते
वरना ज़िंदाँ में आसमाँ है वही
-Faiz Ahmad Faiz
Previous
Next Post »

Recent Updates