Mom Ke Paas Kabhi Aag Lakar Dekhu-Rahat Indori Shayari

,

Mom Ke Paas Kabhi Aag Lakar Dekhu-Rahat Indori Shayari

Mom Ke Paas Kabhi Aag Lakar Dekhu-Rahat Indori Shayari

मोम के पास कभी आग को लाकर देखूँ
सोचता हूँ के तुझे हाथ लगा कर देखूँ

कभी चुपके से चला आऊँ तेरी खिलवत में
और तुझे तेरी निगाहों से बचा कर देखूँ

मैने देखा है ज़माने को शराबें पी कर
दम निकल जाये अगर होश में आकर देखूँ

दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगा कर देखूँ

तेरे बारे में सुना ये है के तू सूरज है
मैं ज़रा देर तेरे साये में आ कर देखूँ

याद आता है के पहले भी कई बार यूं ही
मैने सोचा था के मैं तुझको भुला कर देखूँ

-Rahat Indori Shayari


0 comments to “Mom Ke Paas Kabhi Aag Lakar Dekhu-Rahat Indori Shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy