Kab Thehrega Dard-E-Dil -Faiz Ahmad Faiz

Kab Thehrega Dard-E-Dil -Faiz Ahmad Faiz

Kab Thehrega Dard-E-Dil -Faiz Ahmad Faiz

कब ठहरेगा दर्द-ए-दिल, कब रात बसर होगी

सुनते थे वो आयेंगे, सुनते थे सहर होगी

कब जान लहू होगी, कब अश्क गुहार होगा
किस दिन तेरी शनवाई, ऐ दीदा-ए-तर होगी

कब महकेगी फसले-गुल, कब बहकेगा मयखाना
कब सुबह-ए-सुखन होगी, कब शाम-ए-नज़र होगी

वाइज़ है न जाहिद है, नासेह है न क़ातिल है
अब शहर में यारों की, किस तरह बसर होगी

कब तक अभी रह देखें, ऐ कांटे-जनाना
कब अश्र मुअय्यन है, तुझको तो ख़बर होगी

 -Faiz Ahmad Faiz
Previous
Next Post »

Recent Updates