Har Su Dikhayi Dete Hai Wo Jalwagaar Muje -Jigar Moradabadi Shayari

,

Har Su Dikhayi Dete Hai Wo Jalwagaar Muje -Jigar Moradabadi Shayari

Har Su Dikhayi Dete Hai Wo Jalwagaar Muje -Jigar Moradabadi shayari

हर सू दिखाई देते हैं वो जलवागर मुझे
क्या-क्या फरेब देती है मेरी नज़र  मुझे
डाला है बेखुदी ने अजब राह पर मुझे
आँखें हैं और कुछ नहीं आता नज़र मुझे
दिल ले के मेरा देते हो दाग़-ए-जिगर मुझे
ये बात भूलने की नहीं उम्र भर मुझे
आया ना रास नाला-ए-दिल का असर मुझे
अब तुम मिले तो कुछ नहीं अपनी ख़बर  मुझे
 -Jigar Moradabadi Shayari

0 comments to “Har Su Dikhayi Dete Hai Wo Jalwagaar Muje -Jigar Moradabadi Shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy