Dil Ko Mita Ke Daag-E-Tamanna Diya Muje -Jigar Moradabadi Shayari

,

Dil Ko Mita Ke Daag-E-Tamanna Diya Muje -Jigar Moradabadi Shayari

Dil Ko Mita Ke Daag-E-Tamanna Diya Muje -Jigar Moradabadi Shayari
दिल को मिटा के दाग़े-तमन्ना दिया मुझे
ऐ इश्क़ तेरी ख़ैर हो ये क्या दिया मुझे

महशर  में बात भी न ज़बाँ से निकल सकी
क्या झुक के उस निगाह ने समझा दिया मुझे

मैं और आरज़ू-ए-विसाले-परी-रुख़ाँ
इस इश्क़े-सादा-लौह ने भटका दिया मुझे

हर बार यास हिज्र में दिल की हुई शरीक
हर मर्तबा उम्मीद ने धोका दिया मुझे

दावा किया था ज़ब्ते-मोहब्बत का ऐ ‘जिगर’
ज़ालिम ने बात-बात पे तड़पा दिया मुझे
 -Jigar Moradabadi Shayari

0 comments to “Dil Ko Mita Ke Daag-E-Tamanna Diya Muje -Jigar Moradabadi Shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy