Ajnabi khwahishein Seene Me Dba Bhi Na Saku -Rahat Indori Shayari

Ajnabi khwahishein Seene Me Dba Bhi Na Saku Rahat Indori Shayari

Ajnabi khwahishein Seene Me Dba Bhi Na Saku Rahat Indori Shayari

अजनबी ख्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ
ऐसे जिद्दी हैं परिंदे के उड़ा भी न सकूँ

फूँक डालूँगा किसी रोज ये दिल की दुनिया
ये तेरा खत तो नहीं है कि जला भी न सकूँ

मेरी गैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे
उसने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूँ

इक न इक रोज कहीं ढ़ूँढ़ ही लूँगा तुझको
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ

फल तो सब मेरे दरख्तों के पके हैं लेकिन
इतनी कमजोर हैं शाखें कि हिला भी न सकूँ..

---Rahat Indori Shayari


Previous
Next Post »

Recent Updates