Woh Chandni Ka Badan Khusbuo Ka Saya Hai By Anup Jalota Ghazal

Woh Chandni Ka Badan Khusbuo Ka Saya Hai By Anup Jalota Ghazal

Woh Chandni Ka Badan Khusbuo Ka Saya Hai By Anup Jalota Ghazal

"  Dil ko jab be-kli nahi hoti,jindgi jindgi nahi hoti
Maut ki dhamkiya na do mukjo,Maut kya jindgi nahi hoti.."

Wo chaandni ka badan khusbuo ka saya hai
Bahut ajeez hame hai magar paraya hai..

Tum itni dur sitaaro ke paas rehte ho 
Tumhe khuda ne hamare liye banaya hai...

Use kisi ki mohabbat ka aitbar nahi
Use zamane ne sayad bahut sataya hai...

Kaha se aayi se khusbu ye ghar ki khusbu hai
iss ajnabi se aandhere me kaun aaya hai..

Tamaam umar mera dam isi dhuye me ghuta
Wo ek chiraag tha maine use bhujaya hai..
❤❤❤❤
"  दिल को जब बे-कली  नही होती,जिंदगी जिंदगी नही होती
मौत की धमकिया ना दो मुझको ,मौत क्या जिंदगी नही होती.."

वो चाँदनी का बदन खुशबुओं  का साया है
बहुत अज़ीज़ हमे है मगर पराया है..

तुम इतनी दूर  सितारो के पास रहते हो 
तुम्हे खुदा ने हमारे लिए बनाया है...

उसे किसी की मोहब्बत का ऐतबार नही
उसे ज़माने ने शायद  बहुत सताया है...

कहा से आई से खुश्बू  ये घर की खुश्बू  है
इस अजनबी से अंधेरे  मे कौन आया है..

तमाम  उमर मेरा दम इसी धुए मे घुटा 
वो एक चिराग था मैने उसे भुजाया है..

वो चाँदनी का बदन खुशबुओं  का साया है
बहुत अज़ीज़ हमे है मगर पराया है..

Woh Chandni Ka Badan Khusbuo Ka Saya Hai MP3 Download By Anup Jalota

Previous
Next Post »

Recent Updates