Aye Meri Dilruba Meri Jaan-E-Gazal By Chandan Das Ghazal

,

Aye Meri Dilruba Meri Jaan-E-Gazal By Chandan Das Ghazal

Aye Meri Dilruba Meri Jaan-E-Gazal By Chandan Das Ghazal 


 "Jaam logo ne kaha hai tere bheege lab ko
ek mai he nahi kamal naam rakha hai  uska
Jab bhi kagaz par utari hai teri parchayi
Duniya walo ne gazal naam rakha hai uska.."

Aye meri dilruba meri jaan-e-gazal
Iss jahaa me nahi koi tera badal..

Tu khuda ki khudayi ka shakaar hai
Naaz hai mujko tu he mera pyar hai..

Tu agar  hai to jeene ka armaan hai
Jindgi kya hai tum iski pehchaan hai..

Tere milne se khilte hai dil ke kamal
Iss jahaa me nahi koi tera badal..

Chu liya jisne tera ye sandal badan
Uski nas -nas me aaya baakpan..

Chumti hai bahare usi ke kadam
Keh diya pyar se tune jisko sanam

tune chaha jise uske hai aaj kal
Iss jahaa me nahi koi tera badal..

Tere rukhsaar par mere suraj uge
Lab tere dekh kar pyas dil me jage..

Teri aankhe hai ya ras ke pyale bhare
Jo tera ho gya uske sab ho gaye..

Meri taqdeer hai tere julfo ke bal
Iss jahaa me nahi koi tera badal..

Aye meri dilruba meri jaan-e-gazal
Iss jahaa me nahi koi tera badal..
❤❤❤❤


 "जाम लोगो ने कहा है तेरे भीगे लब को
एक मै  ही नही कमल नाम रखा है  उसका
जब भी काग़ज़ पर उतारी है तेरी परछाई
दुनिया वालो ने ग़ज़ल नाम रखा है उसका.."

ए मेरी दिलरुबा मेरी जान-ए-ग़ज़ल
इस  जहा मे नही कोई तेरा बदल..

तू खुदा की खुदाई का शकार है
नाज़ है मुझको  तू हे मेरा प्यार है..

तू अगर  है तो जीने का अरमान है
जिंदगी क्या है तुम इसकी पहचान है..

तेरे मिलने से खिलते है दिल के कमल
इस  जहा मे नही कोई तेरा बदल..

छू लिया जिसने तेरा ये संगदल  बदन
उसकी नस -नस मे आया बाकपन..

चूमती है बहारे उसी के कदम
कह दिया प्यार से तूने जिसको सनम

तूने चाहा जिसे उसके है आज कल
इस जहा मे नही कोई तेरा बदल..

तेरे रुखसार पर मेरे सूरज उगे
लब तेरे देख कर प्यास दिल मे जागे..

तेरी आँखे है या रस के प्याले भरे
जो तेरा हो गया उसके सब हो गये..

मेरी तक़दीर है तेरे ज़ुल्फो के बल
इस  जहा मे नही कोई तेरा बदल..

ए मेरी दिलरुबा मेरी जान-ए-ग़ज़ल
इस जहा मे नही कोई तेरा बदल..

Aye Meri Dilruba Meri Jaan-E-Gazal MP3 Download By Chandan Das Ghazal

Download


0 comments to “Aye Meri Dilruba Meri Jaan-E-Gazal By Chandan Das Ghazal”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy