Aa Bhi Jao Ke Jindgi Kam Hai By Chandan Das Ghazal

Aa Bhi Jao Ke Jindgi Kam Hai By Chandan Das  Ghazal

Aa Bhi Jao Ke Jindgi Kam Hai By Chandan Das  Ghazal

Aa bhi jao ke jindgi kam hai
tum nahi hi to har khushi kam hai..

Wada kar ke ye kon aaya nahi
Sahar me aaj roshni kam hai..

Jane kya ho gaya hai mausam ko
Dhoop jayada hai chaandni kam hai..

Aa bhi jao ke jindgi kam hai
tum nahi hi to har khushi kam hai..

Aaina dekha kar khayal aaya
Aaj kal unki dosti kam hai..

Tere dam se he mai mukammal hu
Bin tere teri yamini kam hai..

Aa bhi jao ke jindgi kam hai
tum nahi hi to har khushi kam hai..
❤❤❤❤



आ भी जाओ के जिंदगी कम है
तुम नही ही तो हर खुशी कम है..

वादा  कर के ये कौन  आया नही
शहर  मे आज रोशनी कम है..

जाने क्या हो गया है मौसम को
धूप ज़यादा है चाँदनी कम है..

आ भी जाओ के जिंदगी कम है
तुम नही ही तो हर खुशी कम है..

आईना देखा कर ख़याल आया
आज कल उनकी दोस्ती कम है..

तेरे दम से ही  मै  मुकम्मल हू
बिन तेरे तेरी यामिनी कम है..

आ भी जाओ के जिंदगी कम है
तुम नही ही तो हर खुशी कम है..

Aa Bhi Jao Ke Jindgi Kam Hai MP3 Download By Chandan Das Ghazal 

Download


Previous
Next Post »

Recent Updates