Best of Tahir Faraz shayari

Tahir Faraz Shayari

tahir faraz shayari


koi aasu jo kagaaz bhigo jayega,
meer jaisa koi sher ho jayega..!!

ek misra hu mai,ek misra ho tum..
dono mil jaye to sher ho jayega..!!

ghar pahuch kae khushi to milegi magar,
ghar pahuch kar safar khatam ho jayega..!!

wo tabassum jo rukhsat karega tuje
meri palko me moti peero jayega...!!

कोई आंसू को कागज भिगो जायेगा
मीर जैसा कोई शेर हो जायेगा

एक मिसरा हू  मै ,एक मिसरा  हों  तुम
दोनों मिल जाये तो शेर हो जायेगा..

घर पहुंच के ख़ुशी तो मिलेगी मगर
 घर पहुंच कर सफर ख़तम हो जायेगा..

वो तब्बसुम जो रुखसत करेगा तुजे
मेरी पलकों में मोती पीरो जायेगा... 



❤❤❤❤

jo mila hua usse gujara na hua
jo hamara tha hamara na hua..

ham kisi aur se mansoob huye
kya ye nuksaan tumhara na hua..

be-taqalluf bhi wo ho sakte the
hamse he koi ishara na hua..

dono ek dusre pe marte rahe
koi allah ko payara na hua..

जो मिला उससे गुजरा  ना हुआ
जो हमारा था हमारा ना हुआ

हम किसी और से मन्सूब  हुए
क्या ये नुक्सान तुम्हारा न हुआ

बे-तक़ल्लुफ़ भी वो हो सकते थे
हमसे हे कोई इशारा न हुआ

दोनों एक दूसरे पे मरते रहे
कोई अल्लाह को पायरा न हुआ। ... 
❤❤❤❤

rukh pe chal kar hawa ke dekh liya
do kadam ladkhada ke dekh liya

dasht jaisa he dil ka haal raha
ghar ko jannat bana ke dekh liya...

kuch na nikla sivaay aaina
humne parda utha ke dekh liya..

mai na kehta tha baaz aa jao
gair se dil laga ke dekh liya

aaine me jo baal  aaya hai
tumne jo muskura ke dekh liya..

रुख पे चल कर हवा के देख लिया
दो कदम लड़खड़ा के देख लिया। ..

दश्त जैसा हे दिल का हाल रहा
घर को जन्नत बना कर देख लिया। ..

कुछ न निकला सिवाये आइना
हमने पर्दा उठा के देख लिया

मै  न कहता था  के बाज़ आ जाओ
गैर से दिल लगा के देख लिया। .....

आईने में जो बाल  है
तुमने जो मुस्कुरा के देख लिया...

❤❤❤❤

tumhe bhulane ka jo khayal aaye to
 hum nazar me apni gunaahgaar lagne lagte hai..

tumahri yaad ki adat si ho gayi hai
na yaad aao to bimaar lagne lagte hai...

तुम्हे भुलाने का जो ख्याल आये तो
हम नज़र में अपनी गुनाहगार लगने लगते है

तुम्हारी याद की आदत सी  हो गयी है
न याद आओ तो बीमार लगने लगते है...

❤❤❤❤

iski fitrat the hrna nahi hai
ye safar intahayi karegi..

lakh ham iske nakhre uthaye
jindgi bewafayi karegi..

इसकी फितरत है ठहरना ,ये सफर इंतहाई करेगी
लाख हम इसके नखरे उठाये ,जिंदगी बेवफाई करेगी।
❤❤❤❤

baandh rakha hai zahen me jo khayal
usme tarmeem kyu nahi karte..

be-sabab uljhano me rehte ho
muje tasleem kyu nahi karte..

बाँध रखा है ज़हन में जो ख्याल
उसमे तरमीम क्यों नहीं करते
बे-सबब उल्जनो में रहते हो
मुझे तस्लीम क्यों नहीं करते...
❤❤❤❤

maut sach hai ye baat apni jagah
jindgi ka shriaangaar karte raho..

nafa nuksaan hota rehta hai
 pyar ka karobaar karte raho...

मौत सच है ये बात अपनी जगह
जिंदगी का श्रृंगार करते रहो..
नफा नुक्सान होता रहता है
प्यार का कारोबार करते रहो। ..



Previous
Next Post »

Recent Updates