Sharabi

,
Sharabi shayari
sharabi shayari

aur to kuch na hua pee ke bahek jane se
baat maikhane ki bah hil gayi maikhane se
do nigaaho ka jawani me hai aisa milna
jaisa diwane ka milna kisi diwane se..
dil ki ujdi hui halaat pe na jaye koi.
Sahar aabaad huye hai isi veerane se
Dar-o-diwar me kabza hai udasi ka
Ghar mera ghar na raha unke chale jane se…

और तो कुछ ना हुआ पी के बहक जाने से
बात मैखाने की बा ह हिल गयी मैखने से
दो निगाहो का जवानी मे है ऐसा मिलना
जैसा दीवाने का मिलना किसी दीवाने से..
दिल की उजड़ी हुई हालात पे ना जाए कोई.
शहर  आबाद हुए है इसी वीरने से
दर-ओ-दीवार मे क़ब्ज़ा है उदासी का

घर मेरा घर ना रहा उनके चले जाने से…
❤❤❤❤

gum-e-aashiqi ki mare raah-e-aam tak na pahuche
kabhi subh tak na aaye kabhi sham tak na pahuche
mai nazar se pee raha tha ye dil ne badua di
tera hath jindgi bhar jaam tak na pahuche.

गम -ए-आशिक़ी की मारे राह-ए-आम तक ना पहुचे
कभी सूसुबह  तक ना आए कभी शाम तक ना पहुचे
मै  नज़र से पी रहा था ये दिल ने बदुआ दी

तेरा हाथ जिंदगी भर जाम तक ना पहुचे
❤❤❤❤

Khud tishna hu logo ki mai kya pyaas bhujau
Gairo ko ye halat to dikhayi nahi jati
Ek bar jise bhujaya tha tere labo se
Ab sharab se bhi pyas bhujayi nahi jati..

खुद तिष्णा हू लोगो की माई  क्या प्यास भुजौऊ
गैरो को ये हालत तो दिखाई नही जाती
एक बार जिसे भुजाया था तेरे लबो  से


अब शराब से भी प्यास भुजाई नही जाती
❤❤❤❤

Aankho me har ghadi teri tasveer rahegi
Mere dil me tere naam ki tehreer rahegi
Apne rushwayi ka dar nahi hai meri jaan-e-mann
Mere paav me tere zulf ki zanjeer rahegi

.आँखो मे हर घड़ी तेरी तस्वीर रहेगी
मेरे दिल मे तेरे नाम की तहरीर रहेगी
अपने रूश्वाई  का दर नही है मेरी जान-ए-मॅन
मेरे पाव मे तेरे ज़ुलफ की ज़ंजीर रहेगी
❤❤❤❤

Kyu muje maut ke paigaam bheje jate hai
Ye saza kam to nahi ke jeeye jate hai
Maza dono me hai,saqi muje gum de ya sharab
Maii bhi pee jati hai aasu bhi piye jate hai..
Aap logo ke tarh dil hai gareebo ke sameem
Toot jate hai kabhi tod diye jate hai…


क्यू मूज़े मौत के पैगाम भेजे  जाते है
ये सज़ा कम तो नही के जीए जाते है
मज़ा दोनो मे है,साक़ी मूज़े गुम दे या शराब
मै   भी पी जाती है आसू भी पिए जाते है..
आप लोगो के तरह दिल है गरीबो के शमीम 

टूट जाते है कभी तोड़ दिए जाते है…



0 comments to “Sharabi ”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy