Sharab aur Sukoon

Sharabi Shayari

sharabi shayari

Us bewafa ki jaat pe mujko hai ye gila,
sunke bhi meri maut ka aaya na bewafa..
Mar ke bhi uske waste apni to hai ye dua,
jisne mita diya muje,wo khus rahe sda…

उस बेवफा की जात पे मुझको है ये गिला 
सुनके भी मेरी मौत का आया ना बेवफा 
मर के भी उसके वास्ते अपनी तो है ये दुआ 
जिसने मिटा दिया मुझे वो खुश रहे सदा 
❤❤❤❤
Mat pooch mujse mere sabar ki inteha kaha tak hai,
Sitam kar ke dekh le jalim teri taqat jaha tak hai..

मत पूछ मेरे सबर की इन्तहा  कहा तक है 
सितम करके  देख ले  जालिम तेरी ताक़त जहा तक है 


❤❤❤❤
Kaise galti shabab kar baitha,dil mera intkhaab kar baitha
Ye samaj ke jindgi tum ho,jindgani kharab kar baitha…

कैसी गलती शबाब कर बैठा ,दिल मेरा इंतखाब कर बैठा 
ये समज  के जिंदगी तुम हो जिंदगनी ख़राब कर बैठा... 
❤❤❤❤

Zamana kuch bhi kahe uska aehtram na kar,
jise zameer na mane use salam na kar..
Sharab pee ke behkna he hai to na pee,
halaal cheez ko tarh se haram na kar….

ज़माना कुछ भी कहे उसका ऐहतराम न कर 
जिसे ज़मीर न मने उसे सलाम ना  कर
शराब पी कर बहकना ही है तो ना पी 
हलाल चीज़ को इस तरह से हराम ना कर। ..  
❤❤❤❤.

Ham ehle wafa ko ruswa nahi karte,
parda bhi uthe rukh se to dekha nahi karte..
Kar lete hai dil apna tasaavur se he roshan,
maage huye chairago se ujala nahi karte..

हम अहले वफ़ा हुस्न को रुसवा नहीं करते 
पर्दा भी उठे रुख से तो देखा नहीं करते 
कर लेते है दिल अपना तस्सावुर  से ही रोशन 
मांगे हुए चिर्राजो से उजाला नहीं करते... 

Previous
Next Post »

Recent Updates