Bewafa

Sad Shayari

sad shayari


Wo bewafa hai abhi mujpe julm dhayega
Ke baad marne ke wo mujpe taras khayega
Jo apne ghar ki hifajat na kar sake
Wo ghar kisi ka bhala kis tarh bachaygea..

वो बेवफा है अभी मुझपे  ज़ुल्म ढाएगा
के बाद मरने के वो मुझपे  तरस खाएगा
जो अपने घर की हिफ़ाज़त ना कर सके
वो घर किसी का भला किस तरह बचायगे
❤❤❤❤
Aatish-e-gum ke siva kuch bhi nahi de sakte
Ashq gum ke siva kuch nahi de sakte
Tum hume bhul jao ab to
Ham tmhe gum ke siva kuch nahi nahi de sakte..

आतिश-ए-गुम के सिवा कुछ भी नही दे सकते
अश्क़  गम के सिवा कुछ नही दे सकते
तुम हमे  भूल जाओ अब तो

हम तुम्हे  गम  के सिवा कुछ नही नही दे सकते
❤❤❤❤

Raasta kaat ke har bar gujar jata hai
Jaise pardesh me tehwaar gujar jata hai
Jindgi ishq me apni yu gujri hai
Jaise bazaar se nadaar gujar jata hai…

रास्ता काट के हर बार गुजर जाता है
जैसे  परदेश मे तहवार गुजर जाता है
जिंदगी इश्क़ मे अपनी यू गुज़री है

जैसे बज़ार से नदार गुजर जाता है
❤❤❤❤

Rehta nahi insaan to hota nahi gum bhi
Ik roz zameen odh kar so jayege ham bhi
Ha half-e-wafa shok se uthwaiye lekin
Ham log wafadaar hai bekool kasam bhi..

रहता नही इंसान तो होता नही गम भी
इक रोज़ ज़मीन ओढ़ कर सो जाएगे हम भी
हा हालफ -ए-वफ़ा शोक से उठवए लेकिन

हम लोग वफ़ादार है बेकूल कसम भी.
❤❤❤❤

Aye raat ja kar unko mera paigaam de do unko
Ke tera aashiq aa raha hai tera sahar chod kar..
Mai fankar to nahi tha muje fankar banaya teri nafrat me
Duniya se dar-badar kar diya hai bewafa teri mohabbat  ne..


ए  रात जा कर उनको मेरा पैगाम दे दो उनको
के तेरा आशिक़ आ रहा है तेरा शहर  छोड़ कर..
मै  फनकार तो नही था मूज़े फनकार बनाया तेरी नफ़रत मे

दुनिया  से दर-बदर कर दिया है बेवफा तेरी मोहब्बत  ने.

Previous
Next Post »

Recent Updates