Aasu

,
Sad Shayari

sad shayari


Apne he saaye se ashqo ho chupa ke rona,
jab bhi rona chiraago ko bhuja kar rona,
Log padh lete hai chehre pe likhi tehreere,
kitna dushwar hai logo se chupakar rona..

 अपने ही  साये से अश्क़ो  को छुपा के रोना 
जब भी रोना चिरागो को भुजा के रोना 
लोग पढ़ लेते है चेहरे पे लिखी तहरीरे 
कितना दुश्वार है लोगो से छुपाकर  रोने... 
❤❤❤❤

Khule pade hai mere jindgi ke sare panne,
na jane kab koi aandhi uda ke le jaye..
Kisi ka dard mai kaha tak apne paas rakhu,
ye jiska ho wo nishani bata kar le jaye…

खुले पड़े है मेरी  जिंदगी के सरे पन्ने 
न जाने कब कोई आंधी उड़ा  के ले जाये 
किसी का दर्द मै  कहा तक अपने पास रखु 
ये जिसका हो वो निशानी बता कर ले जाये...  

❤❤❤❤

Muje rote huye dekha kiya wada phir aane ka,
ek behte huye dariya pe buniyad-e-makan rakh di.
Chaman ke rang-o-boo ne is kadar dhoke diye mujko,
ke maine jo ke gulboosi me kaato par juba rakh di..


मुझे रोते  हुए देखा तो किया वादा  फिर आने का 
एक बहते हुए दरिया पे बुनियाद-ए -मकां  रख दी 
चमन के रंग-औ -बू  ने इस कदर धोके दिए मुझको 
के मैंने जौ के गुलबोसी में काटो पर ज़ुबाँ रख दी। .... 

❤❤❤❤
Sahar huyi to sitaaro ne sath chod diya,
nazar mili to nazaro ne sath chod diya..
Khile jo phool baharo ne sath chod diya,
teri taalash me aise bhi manzile aayi 
ke khaas-khaas saharo ne sath chod diya…
  
सहर हुयी तो सितारों ने साथ छोड़ दिया 
नज़र  मिली तो  नाज़ारो  ने  साथ छोड़ दिया 
खिले जो  फूल बहरो से साथ छोड़ दिया 
तेरी तालश में सीदी  मंज़िले आयी 
के खास -खास सहारो  ने साथ छोड़ दिया... 
❤❤❤❤

Kis kadar the hum log,dhoka kha gaye..
Phattaro ke sahar me aaina lekar aa gaye...

किस कदर नादान  थे हम लोग धोका खा गए 
फत्तरो के शहर  में आइना लेकर आ गए  
❤❤❤❤

Tumse hargiz na chudata ye zamana mujko,
Tumne chaha he nahi apna banana mujko..

तुमसे हरगिज ना  छुड़ाता ये ज़माना मुझको 
तुमने चाहा ही  नहीं अपना बनाना मुझको 



1 comments:

  • July 15, 2017 at 11:02 PM

    nice shayari

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy