Raaste Khud he Tabhayi

Sad Shayari



sad shayari

Raaste khud he tabahayi ke nikale humne
kar diya dil kisi phattar ke hawale humne..
Hamko malum hai kya seh hai mohabbat,
apna ghar fook kar dekhe hai ujaale hamne…

रास्ते खुद हे तबहाई के निकाले हमने 
कर दिया दिल किसी फत्तर के हवाले हमने 
हमको मालूम है क्या शह है मोहब्बत 
अपना घर फूक कर देखे है उजाले हमने...  
❤❤❤❤

Koi  keh de ye mohabbat ke khridaaro se,
pyar wo seh hai jo mlti nahi bazaro se…
Ham to pehle bhi jale baithe hai,
kyu darate ho dehkate huye angaaro se….

कोई कह दे इन मोहब्बत के ठेकेदारों से 
प्यार वो शह  है जो मिलती नहीं बाज़ारो से 
हम तो पहले ही मोहब्बत  में लुटे बैठे है 
क्यों डराते हो दहकते हुए अंगगारो  से 
❤❤❤❤

wafa ki aakhri had se gujar liya jaye,
sitamgaro me mohalle me ghar liya jaye..
jidhar nihaag uthe aap he ke jalwe ho,
jiye to jiye aise jiye warna mar liya jaye…

वफ़ा की आखरी हद से गुजर लिया जाये 
सितमगरो के मोहल्ले में घर लिया जाये 
जिधर निगाह उठे आप ही  के जलवे हो 
जिए तो ऐसे जिए वरना  मर लिया  जाये 
❤❤❤❤

unka koi paigaam na  aaya,dil ka tadpana kaam na  aaya..
tu na mila tera dard mila,dar se tere nakaam na aaya..
husn ne ki jee bhar ke jawafaye,uspe magar ilzaam na aaya.
Tere begair jaan-e-tamanna,dil ko kahi aaram na aaya….

उनका कोई पैगाम ना  आया मेरे दिल का तड़पना काम  आया 
तू ना  मिला तो तेरा दर्द सही दर से तेरे नाकाम न आया 
हुस्न ने की जी भर के जफाये उस पर मगर इलज़ाम न आया 
तेरे बगैर ए  जाने तमन्ना दिल को कही आराम ना  आया 



Previous
Next Post »

Recent Updates