Love Shayari

,

Love Shayari

love shayari

Teri yaad me hua jab se gum,tere gumshuda ka ye haal hai,
Na dur hai,Na kareeb hai,na firaaq hai,na wisal hai…

तेरी याद में हुआ जब से गुम ,तेरे गुमशुदा का ये हाल है 
ना दूर है ,ना करीब है ,न फ़िराक है,न विसाल  है... 

❤❤❤❤
Jahan me tu he to meri justju hai,tamanna bhi tu hai,aarzoo bhi tu hai,
Hai chahat bhi,mohabbat bhi tu hai,meri jindgi ke ibadat bhi tu hai..
Khayalo me tu hai,khawabo me tu hai,nigaaho me tu hai,saaso me tu hai..
Ke meri mohabbat ke kabil tum he ho,ke meri jindgaani ka hasil tum he ho…

जहाँ में तू हे तो मेरी जुस्तजू है ,तमन्ना भी तू है ,आरज़ू भी तू है 
है चाहत भी ,मोहब्बत भी तू है ,मेरी जिंदगी की इबादत भी तू है. 
खयालो में तू ,खवाबो में तू है,निगाहो में तू है ,सासो में तू है 
के मेरी मोहब्बत के काबिल तुम हे हो ,के मेरी जिंदगानी का हासिल तुम ही हो। .. 


❤❤❤❤
Har ek fankar muqaddar apna apne sath laya hai,
mohabbat ka gum tanha mere hisse me aaya hai..
Mohabbat ibtida meri,mohabbat imtehaan meri,
mohabbat se ibarat hai,baqa meri,fanna meri..
Mohabbat aarzo meri,mohabbat justu meri,
mohabbat khamoshi meri,mohabbat guftagu meri,
Mohabbat he meri taqat,mohabbat he jawani meri,
mohabbat jo na ho,veeran meri jindgani hai…

हर एक फनकार मुक़द्दर अपना अपने साथ लाया है 
मु ोहब्बत का जूनून तनहा मेरे हिस्से में आया है। 
मोहब्बत इब्तिदा मेरी,मोहब्बत इम्तेहान मेरी 
मोहब्बत से इबारत है,बका मेरी,फना मेरी 
मोहब्बत ही आरज़ू मेरी,मोहब्बार जुस्तजू मेरी 
मोहबत ख़ामोशी मेरी,मोहब्बत गुफ्तुगू मेरी 
मोहब्बत ही मेरी ताक़त ,मोहब्बत  जवानी मेरी 
मोहब्बत जो ना हो ,वीरान जिन्दगानी  है 


❤❤❤❤

Ruke to chaand,chale to hawao jaisa hai,
wo shakash dhoop me dekha to chaav jaisa hai,
Tu to gulshan hai mehkete  phulo ka,
mai ek dasht hu veerana hi,sach kahu to bura na manna,
Mai tere zulm ka nishana hu…

रुके तो चाँद,चले तो हवाओ जैसा है 
वो शख्श  धुप में देखा तो छाव जैसा है 
तू तो गुलशन है महकते फूलों  का 
मै  एक दश्त हू  वीराना हू 
सच कहु तो बुरा न मानना  
मई तेरे जुल्म का निशाना हु... 

❤❤❤❤

Aarzoo ye hai ke unki har nazar dekha kare,
wo he apne saamne ho ham jidhar dekha kare..
Ek tarf ho duniya saari,ek tarf ho surat teri,
ham tuje duniya se chupa kar befikar dekha kare…

आरज़ू है के उनकी हर नज़र देखा करे 
वो ही हो अपने सामने हम जिधर देखा करे
एक तरफ हो सारी  दुनिया एक तरफ सारी  दुनिया 
हम तुजे दुनिया  से छुपा कर बेफिक्र देखा करे.



0 comments to “Love Shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy