Gum-E-Hijar

,
Life shayari
life shayari

Har dua agar qubool ho jaye,aadmi be usool ho jaye..
Ranj aur gum rahato me shamil hai,warna insaan malool ho jaye…

हर दुआ अगर क़ुबूल हो जाए,आदमी बे उसूल हो जाए..

रंज और गुम राहातो मे शामिल है,वरना इंसान मालूल हो जाए
.❤❤❤❤
Darmane gum-e-hijar ho to muje kya,
agar tumhe meri khabar ho to muje kya..
Jab ho gayi gum se meri duniya tabah,
ab ek jahah zere zabar ho to muje kya..
Jab khaak bhi baki na rahi kalmo jigar ki,
tum mere liye khaak basar ho to muje kya..
Aur mere dil-e-veerane me ujala nahi hota,
tum gairat-e-khurshid-o-kamar ho to muje kya..
Aur hai ab meri duniya me sarasar shab-e-furqat,
ab is shab-e-furqat ki sahar ho to muje kya…
Aur aacha hai bin mere gujar jaye kisi ki,
aur yu bhi kisi ki gujar na ho to muje kya…

दरमाने गुम-ए-हिजर हो तो मुझे  क्या,
अगर तुम्हे मेरी खबर हो तो मुझे  क्या..
जब हो गयी गुम से मेरी दुनिया तबाह,
अब एक जाहान  ज़ेरे ज़बर हो तो मूज़े क्या..
जब खाक भी बाकी ना रही कलमो जिगर की,
तुम मेरे लिए खाक बसर हो तो मूज़े क्या..
और मेरे दिल-ए-वीरने मे उजाला नही होता,
तुम गैरत-ए-खुर्शीद-ओ-कमर हो तो मूज़े क्या..
और है अब मेरी दुनिया मे सरासर शब-ए-फुरक़त,
अब इस शब-ए-फुरक़त की सहर हो तो मूज़े क्या…
और अच्छा  है बिन मेरे गुजर जाए किसी की,

और यू भी किसी की गुजर ना हो तो मूज़े क्या
❤❤❤❤
Roz take udhede jate hai,roz zakhm-e-jigar seta hu..
Jane kyu log padhna chahate hai,mai quran hu na geeta hu….

रोज़ टके उधेड़े जाते है,रोज़ ज़ख़्म-ए-जिगर सेता हू..

जाने क्यू लोग पढ़ना चाहते है,मै  क़ुरान हू ना गीता हू
❤❤❤❤
ghar bhi soona hai mere jist ke aagan ki tarh
laut ke waqt na aaya mere bachpan ke tarh
par tawe zulf mere mere behte hue ashko me
kisi talaab me behti hui nagin ki tarh
kar ke ghayal muje uska bhi bura haal hua
uski zulfe bhi na sulji meri uljan ki tarh
mujo gurbat ne dasa,usko daulat ki hawas ne
bik gaya wo bhi baharhaal mere fan ki tarh..

घर भी सूना है मेरेजीस्त  के आगन की तरह
लौट के वक़्त ना आया मेरे बचपन के तरह
पर तवे ज़ुलफ मेरे मेरे बहते हुए अश्को मे
किसी तालाब मे बहती हुई नागिन की तरह
कर के घायल मुझे  उसका भी बुरा हाल हुआ
उसकी ज़ूलफे भी ना सुलजी मेरी उलजान की तरह
मुझे  ग़ुरबत ने डसा,उसको दौलत की हवस ने

बिक गया वो भी बहरहाल मेरे फन की तरह
❤❤❤❤
Tod dala hamne nata sari qayenaat se
Humne khud hasti mita li apne hath se..



तोड़ डाला हमने नाता सारी क़ायनात  से

हुँने खुद हस्ती मिटा ली अपने हाथ से


0 comments to “Gum-E-Hijar”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy