Humne To Karwato Me Jawani Gujar Di ~Sad Shayari

,

Sad Shayari

sad shayari


Humne to karwato me jawani gujar di,
hasrato se gair ki bazm dekhte rahe,

Humse wo manjar-e-maikashi na puchiye
kya dekhte apna jigar dekhte rahe....

हमने तो करवटो में जवानी गुजार दी
हसरतो से गैर की बज़्म देखते रहे 
हमसे वो मंजर -ऐ -मैकसी ना पूछिए 
क्या देखते अपना जिगर देखते रहे... 

❤❤❤❤

Muje yakeen hai usne mohabbat to musje ki hogi
magar zamane ne izhaar ki mohalat na di hogi,

mai apne aap ko sulga raha hu is tavakko par,
kabhi to agg bhadkegi,kabhi to roshni hogi.

मुझे यकीन है उसने मोहब्बत तो मुझसे की होगी 
मगर ज़माने के इजहार की मोहलत न दी होगी
मैं  अपने आप को सुलगा रहा हु इस तवक्को पर 
कभी तो आग भड़केगी कभी तो रौशनी होगी... 

❤❤❤❤


Mai ek harf tha,usne muje kitaab kiya,
magar ye aib bhi rakha ke be-khitaab kiya

khudi ki roshni kitni ho ye hisaab kiya,
khuda ne jab kisi zarre ko aaftaab kiya..

मै एक हर्फ़ था उसने मुझे किताब किया मगर ये ऐब भी रखा के बे ख़िताब किया 
खुदी की रौशनी कितनी हो ये हिसाब किया ,खुदा ने जब किसी ज़र्रे को आफताब किया... 

❤❤❤❤

khuda khush rakhe dil me,dard banke aane wale ko,
zamane bhar ki rahat mile,muje tadpane wale ko....

खुदा खुश रखे दिल में दर्द बनकर आने वाले को 
ज़माने भर की खुशियाँ मिले मुझे तड़पने वाले को। .. 

❤❤❤❤

Roz take udhede jate hai,roz zakhm-e-jigar seta hu..
Jane kyu log padhna chahate hai,mai quran hu na geeta hu….

रोज़ टांके उधेड़े जाते है ,रोज़ ज़ख्मे -जिगर को सीता हूँ 
जाने क्यों लोग पढ़ना चाहते है मै  क़ुरान हूँ  ना  गीता हूँ ... 


--Sad Shayari

0 comments to “Humne To Karwato Me Jawani Gujar Di ~Sad Shayari”

Post a Comment

Recent Posted Ghazal

 

Shayari Zone Copyright © 2017 | Disclaimer Disclaimer | Contact us Contact us | Privacy PolicyPrivacy Policy